Connect with us

देश

UP: निराश्रित महिलाओं को ज्यादा पेंशन, छात्राओं को स्कूटी…जानिए आज किन चीजों पर होगा योगी सरकार के बजट का फोकस

इस बजट के 6 लाख करोड़ पार करने की संभावना है। इस लिहाज से ये यूपी का अब तक का सबसे बड़ा बजट प्रावधान होगा। इससे पहले पिछला बजट साढ़े 5 लाख करोड़ का पेश किया गया था। माना जा रहा है कि इस बजट के जरिए बीजेपी सरकार विधानसभा चुनाव के दौरान जारी संकल्प पत्र के वादों में से कई को पूरा करेगी।

Published

on

yogi

लखनऊ। यूपी की योगी सरकार के दूसरे कार्यकाल का आज पहला बजट विधानमंडल में पेश होगा। पहले 11 बजे सुबह वित्त मंत्री सुरेश खन्ना विधानसभा में बजट भाषण पढ़ेंगे। बाद में इसे विधान परिषद में पेश किया जाएगा। इस बजट के 6 लाख करोड़ पार करने की संभावना है। इस लिहाज से ये यूपी का अब तक का सबसे बड़ा बजट प्रावधान होगा। इससे पहले पिछला बजट साढ़े 5 लाख करोड़ का पेश किया गया था। माना जा रहा है कि इस बजट के जरिए बीजेपी सरकार विधानसभा चुनाव के दौरान जारी संकल्प पत्र के वादों में से कई को पूरा करेगी। महिलाओं, युवाओं और किसानों के अलावा बजट में विकास कार्यों को प्राथमिकता मिलने के आसार हैं।

yogi in vidhansabha

सूत्रों के मुताबिक बजट में किसानों को फ्री बिजली, फसलों का न्यूनतम मूल्य MSP तय करने के लिए भामाशाह भाव स्थिरता कोष बनाने का एलान हो सकता है। लघु और सीमांत किसानों के लिए बोरवेल, ट्यूबवेल, तालाब और टैंक बनाने के लिए धन दिया जा सकता है। मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के तहत मदद को 15 से बढ़ाकर 25000 करने, 60 साल से ज्यादा महिलाओं को सरकारी बसों में मुफ्त सफर का भी तोहफा बजट के जरिए देने की उम्मीद है। इसके अलावा पति विहीन और निराश्रित महिलाओं की पेंशन में बढ़ोतरी का प्रावधान हो सकता है।

budget

छात्राओं को रानी लक्ष्मीबाई योजना के तहत मुफ्त स्कूटी देने का प्रावधान भी बजट में हो सकता है। सीएम योगी ने चुनाव के दौरान एलान किया था कि मेधावी छात्राओं को उनकी सरकार स्कूटी देगी। नई सड़कों को बनाने और एक्सप्रेस-वे के लिए बजट प्रावधान हो सकते हैं। बता दें कि गंगा एक्सप्रेस-वे का काम भी तेजी से चल रहा है। अगले महीने बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे को भी चालू करने का लक्ष्य सरकार का है। बजट में नई यूनिवर्सिटी और आईटीआई की स्थापना, सभी मंडलों में एंटी करप्शन सेल और थानों में साइबर हेल्प डेस्क के लिए भी बजट प्रावधान होने के आसार हैं। हर जिले में मेडिकल कॉलेज भी बनाने का फैसला पहले ही योगी सरकार ने किया था। इसे भी बजट में अमली जामा पहनाया जा सकता है।

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement