Connect with us

देश

National Herald case: यंग इंडिया के दफ्तर पर ताला, अब ED का क्या होगा अगला कदम?

National Herald case: भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया ने कहा कि, पूरे भारत में एक केवल एक ही राजनीतिक परिवार है। जिसके तीन सदस्य भ्रष्टाचार के आरोप में बेल पर बाहर है। जिसमें सोनिया गांधी, राहुल गांधी और रॉबर्ट वाड्रा है। उन्होंने ये भी कहा कि अगर ये राजनीतिक द्वेष है तो कोर्ट जाकर इस मसले को हल क्यों नहीं कर देते है। 

Published

on

National Herald Case

नई दिल्ली। नेशनल हेराल्ड मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने आज बड़ी कार्रवाई की है। राजधानी दिल्ली में नेशनल हेराल्ड परिसर में बने यंग इंडिया के दफ्तर को प्रवर्तन निदेशालय ने सील कर दिया है। दफ्तर के बाहर बाकायदा नोटिस चस्पा कर दिया गया है। जिसमें लिखा गया है कि एजेंसी की अनुमति के बिना परिसर को नहीं खोला जाए।  इधर ईडी  का एक्शन हुआ तो वहीं कांग्रेस दफ्तर से लेकर सोनिया गांधी, राहुल गांधी के घर की सुरक्षा बढ़ा दी गई। वहीं कांग्रेस के दिग्गज नेता पार्टी दफ्तर के बाहर जुट गए। बड़ी बात दफ्तर सील करने से पहले मंगलवार को ईडी की टीम ने सुबह से लेकर शाम तक दिल्ली स्थित नेशनल हेराल्ड के दिल्ली, मुंबई और कोलकाता समेत 16 ठिकानों पर छापे मारे थे। ये छापेमारी सोनिया गांधी और राहुल गांधी से पूछताछ के बाद हुई। अब ईडी के इस एक्शन के बाद कांग्रेस पार्टी सरकार पर पूरी तरह से हमलावर है। साथ ही कांग्रेस ने साफ कर दिया है कि वो ईडी के इस एक्शन से डरने वाली नहीं है। कांग्रेस के दिग्गज नेता जयराम रमेश, मल्किार्जुन खड़गे, सोनिया गांधी और राहुल गांधी के बचाव में उतर गए है और उन्होंने मोदी सरकार पर हमला बोला।

वहीं भाजपा ने कांग्रेस ने इन आरोपों पर पलटवार भी किया है। भाजपा ने ईडी के एक्शन के पीछे सियासी आरोपों को सिरे से खारिज कर रही  है। भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया ने कहा कि, पूरे भारत में एक केवल एक ही राजनीतिक परिवार है। जिसके तीन सदस्य भ्रष्टाचार के आरोप में बेल पर बाहर है। जिसमें सोनिया गांधी, राहुल गांधी और रॉबर्ट वाड्रा है। उन्होंने ये भी कहा कि अगर ये राजनीतिक द्वेष है तो कोर्ट जाकर इस मसले को हल क्यों नहीं कर देते है।

sonia and rahul gandhi

उधर भाजपा की सफाई विपक्ष के गले से नहीं उतर रही है। इसे संयोग कहे या फिर प्रयोग। बीते कुछ सालों में विपक्ष के तमाम बड़े नेताओं के खिलाफ ईडी की जांच चल रही है। जिसमें  कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी, जेल में बंद ममता के करीबी टीएमसी नेता पार्थ चटर्जी, एनसीपी नेता नवाब मलिक, अनिल देशमुख, प्रफुल पटेल और आम आदमी पार्टी के नेता सत्येंद्र जैन के नाम शामिल है। अब सवाल ये है कि यंग इंडिया के दफ्तर पर ईडी के ताले तलाने के बाद अगला कदम क्या होगा? क्या सोनिया गांधी और राहुल गांधी के खिलाफ ईडी बड़ी कार्रवाई कर सकती है?

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement