पार्श्वनाथ डेवलपर्स : रियल एस्टेट में विश्वसनीय, अतुलनीय नाम

संस्थापक चेयरमैन प्रदीप जैन के नेतृत्व में पार्श्वनाथ डेवलपर्स लिमिटेड 34 सालों के अनुभव के साथ देश के अग्रणी रियल एस्टेट एवं इंफ्रास्ट्रक्टर कंपनियों में से एक बन चुका है। देश के 14 सूबों के कुल 39 शहरों में इसकी मौजूदगी है।

Written by: March 14, 2020 3:55 pm

देश की स्वतंत्रता के बाद भारी उद्योग और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम (पीएसयू) देश की तरक्की के प्रमुख कारक रहे। लेकिन सन् 1990 के दशक से रियल एस्टेट सेक्टर ने भारत की तरक्की में बड़ी भूमिका निभाई है। इस सेक्टर ने लाखों नौकरियों का निर्माण किया और देश की जीडीपी में अहम योगदान दिया। आज रियल एस्टेट कृषि के बाद रोजगार के मामले में दूसरा सबसे बड़ा क्षेत्र है जिसका जीडीपी में 6.5 से 7% का योगदान है और जो बहुतायत में विदेशी निवेश को आकर्षित कर रहा है।

Parsvnath

संपूर्ण भारत में अपनी मौजूदगी, 34 वर्षों के तजुर्बे और अपने ग्राहकों के साथ विश्वास के संबंधों की वजह से पार्श्वनाथ डेवलपर्स बाकी रियल एस्टेट कंपनियों से अलग है। आईएसओ (ISO) एवं ओएचएसएएस (OHSAS) सर्टिफिकेट हासिल करने वाली पार्श्वनाथ रियल एस्टेट पहली कंपनी है। हाउसिंग, कमर्शियल, हॉस्पिटैलिटी एवं रिटेल जैसे क्षेत्रों में अपनी सक्रियता की वजह से पार्श्वनाथ तीन से भी ज्यादा दशकों से भारत की कामयाबी में अपना योगदान दे रहा है।

आवासीय टाउनशिप, रिटेल, होटल/ मॉल, कमर्शियल कॉम्पलेक्स आईटी पार्क एवं विशेष आर्थिक क्षेत्र (स्पेशल इकोनॉमिक जोन) जैसे इस कंपनी के प्रोजेक्ट हैं। इससे इनकार नहीं किया जा सकता है कि रियल एस्टेट का भविष्य उज्जवल है। रिपोर्ट्स के अनुसार भारत का रियल एस्टेट सेक्टर 2030 में एक खरब अमेरिकी डॉलर तक पहुंच जायेगा। जो 2017 में 120 अरब अमेरिकी डॉलर था।

पार्श्वनाथ का परिचय-

संस्थापक चेयरमैन प्रदीप जैन के नेतृत्व में पार्श्वनाथ डेवलपर्स लिमिटेड 34 सालों के अनुभव के साथ देश के अग्रणी रियल एस्टेट एवं इंफ्रास्ट्रक्टर कंपनियों में से एक बन चुका है। देश के 14 राज्यों के कुल 39 शहरों में इसकी मौजूदगी है। आवासीय, कमर्शियल (ऑफिस व रिटेल), डीएमआरसी रिटेल व कमर्शियल प्रोजेक्ट्स, होटल, एसईजेड, आईटी पार्क एवं थर्ड पार्टी कंस्ट्रक्शन कंपनी की बहुआयामी गतिविधियों में शामिल है। प्रदीप जैन के नेतृत्व में कंपनी ने कई सम्मान एवं प्रशंसनीय पुरस्कार हासिल करते हुए खुद को रियल एस्टेट का अगुवा बना दिया है।

पार्श्वनाथ भारत की पहली कंपनी है जिसने ISO 9001, 140001 और OHSAS 18001 सर्टिफिकेशन हासिल किया है। कंपनी के पास 100 मिलियन वर्ग फुट जमीन है जो अपने आप में विशाल लैंड बैंक है। पार्श्वनाथ को पहली ऐसी रियल एस्टेट कंपनी होने का भी गौरव प्राप्त है जिसने ऐसा IPO लाया जिसको 55 गुना से भी ज्यादा ओवर सब्सक्राइब होने का जबरदस्त रिस्पॉन्स मिला।

Parsvnath

कंपनी का सफर 1984 में शुरू हुआ जो 1990 में निगमित होने के साथ और तेज हुआ। इसके साथ ही कंपनी ने पूरे देश में प्रोजेक्ट्स डेवलप करते हुए आर्किटेक्चर की नई इबारत लिखने का मिशन अपने हाथों ले लिया। फिर क्या था बड़े लैंड बैंक और कस्टमर बेस के साथ कंपनी ने सभी वर्गों और जरुरतों के हिसाब से प्रोजेक्ट कर क्रांति ला दी।

आवासीय एवं कमर्शियल स्वरूप में बंजर जमीन को बदल देने की आर्किटेक्चरल क्रांति करने का सेहरा भी पार्श्वनाथ के सिर बंधा। आवासीय सेगमेंट में कंपनी ने सफलतापूर्वक 20 रेजिडेंशियल ग्रुप हाउसिंग प्रोजेक्टस को डेवलप किया है और 15 कमर्शियल प्रोजेक्टस पूर्ण हो चुके हैं। इसी तरह कंपनी ने 13 इंटीग्रेटेड टाउनशिप, 11 DMRC प्रोजेक्टस व 6 कांट्रेक्चुअल प्रोजेक्टस पूरे किए हैं। इस प्रकार कुल प्रोजेक्टस जहां पार्ट या फुल पजेशन की ऑफर दी गई है कि तदाद 65 है।

पार्श्वनाथ होटल्स लिमिटेड और पार्श्वनाथ इन्फ्रा लिमिटेड कई हॉस्पिटैलिटी प्रॉपर्टी एवं SEZ डेवलप कर रही है। आर्किटेक्चर, निर्माण, सेल्स, परचेज, एडवरटाइजिंग, फाइनेंस अकाउंटस, बिजनेस डेवलपमेंट, लीगल, कस्टमर रिलेशनशिप आदि तमाम विभागों में कंपनी ने करीब 500 स्टाफ रखा हुआ है।

Parsvnath

कंपनी को कई कामों को पहले करने के लिए तमगे हासिल है। फाइनेंशियल रेटिंग हासिल करने वाली यह पहली कंपनी है। इसी तरह भूकंप रोधी संरचना लाने रेडियो को विज्ञापन का माध्यम बनाने से लेकर पेमेंट प्लॉन की कई वेरिएशन पेश करने वाली यह पहली कंपनी है। 55 गुना आईपीओ ओवरसब्सक्राइब वाली भी पार्श्वनाथ पहली कंपनी है।

इस प्रकार ग्राहकों को उनकी कीमत की पूरी संतुष्टि देते हुए एवं नए प्रोजेक्टस के साथ उनकी उम्मीदों पर खरा उतरते हुए पार्श्वनाथ दिनों दिन नई ऊंचाइयां छू रही है। कंपनी निश्चित तौर पर रियल एस्टेट में सच्ची अगुवा है।