Connect with us

खेल

Who is Dutee Chand: जानिए, कौन हैं दुती चंद, जिन्होंने अपनी महिला समलैंगिक पार्टनर संग रचाई शादी

तीन साल तक रिलेशनशिप में रहने के बाद दुती अब अपने समलैंगिक पार्टनर संग शादी के बंधन में बंध चुकी हैं। जिसके बाद सोशल मीडिया पर लोग एथलीट को बधाई दे रहे हैं। दुती चंद पहली भारतीय महिला एथलीट हैं। जिन्होंने सार्वजनिक तौर पर खुद के समलैंगिक पार्टनर संग रिलेशनशिप में होने की बात ना महज स्वीकारी, बल्कि शादी भी रचाई।

Published

नई दिल्ली। खुद को सुर्खियों की कायनात से अलहदा रखने वाली भारतीय महिला एथलीट दुती चंद अभी सुर्खियों में हैं। उनके सुर्खियों में होने की वजह इस बार किसी ओलिंपिक में उनके द्वार कोई कीर्तिमान स्थापित कर लेना नहीं है, बल्कि इस बार वो अपने लव लाइफ को लेकर सुर्खियों में हैं। दरअसल, खबर है कि दुती चंद ने अपने समलैंगिक पार्टनर संग शादी रचा ली है। तीन साल तक रिलेशनशिप में रहने के बाद दुती अब अपने समलैंगिक पार्टनर संग शादी के बंधन में बंध चुकी हैं। जिसके बाद सोशल मीडिया पर लोग एथलीट को बधाई दे रहे हैं। दुती चंद पहली भारतीय महिला एथलीट हैं। जिन्होंने सार्वजनिक तौर पर खुद के समलैंगिक पार्टनर संग रिलेशनशिप में होने की बात ना महज स्वीकारी, बल्कि शादी भी रचाई। बहरहाल, ये तो रही उनकी शादी की ताजा खबर, लेकिन आइए अब जरा उनके बारे में विस्तार से जान लेते हैं।

3 फरवरी 1996 को दुती चंद का जन्म ओडिशा के जीजापुर जिले में हुआ था। दुती एक भारतीय अंतर्राष्ट्रीय व्यक्तिगत स्प्रिंट और वर्तमान राष्ट्रीय 100 मीटर इवेंट की महिला खिलाड़ी हैं। विकिपीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, दुती भारत की तीसरी महिला खिलाड़ी हैं, जिन्हें ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक खेलों के 100 मीटर की इवेंट में क़्वालीफाई किया गया है। दुती ने इटली में जुलाई, 2019 में सम्पन्न वर्ल्ड यूनिवर्सिटी गेम्स में कीर्तिमान भी स्थापित किया था।

दुती वहां महिलाओं के ट्रैक एंड फील्ड इवेंट्स में गोल्ड मेडल जीतने वाली पहली महिला बन गयीं। दुती ने 100 मीटर रेस में 11.32 सेकंड का समय निकालते हुए वह रेस में जीत दर्ज की थी। यही नहीं, साल 2016 में उन्हें ओडिशा माइनिंग कॉर्पोरेशन में असिस्टेंट मैनेजर नियुक्त किया गया। 2019 में एथलीट ने खुद के समलैंगिक रिश्ते में होने की बात स्वीकारी थी। अपने सात भाई-बहनों में दुती अपने माता-पिता की तीसरी संतान है।

दुती उस वक्त सुर्खियों में आई थीं, जब उन्होंने 2012 अंडर-18 नैशनल चैंपियनशिप में 100 मीटर दौड़ जीत कर नया रिकॉर्ड अपने नाम किया था। इसके बाद उन्होंने साल 2013 में एशियन एथलेटिक्स चैंपियनशिप की 200 मीटर स्पर्धा में कांस्य पदक अपने नाम करने में सफल रही। इसके बाद दुती ने वर्ल्ड यूथ चैंपियनशिप में हिस्सा लेकर किसी भी अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता के फाइनल में पहुँचने वाली भारत की पहली एथलीट बनीं।

इसके बाद दुती ने एशियन जूनियर एथलेटिक्स चैंपियनशिप, ताइपे के 200 मीटर और 4×400 मीटर रिले में स्वर्ण पदक जीत कर कुछ आगामी ओलिंपिक में कुछ बड़ा करने का संकेत दे दिए थे, लेकिन अफसोस यह उनका दुर्भाग्य रहा कि उन्हें 2014 में होने वाले ओलिंपिक से पहले होने वाले हार्मोन टेस्ट में उन पर पुरुष होने के आरोप लगे थे, जिसके बाद एथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ़ इंडिया ने उन्हें ओलिंपिक में हिस्सा लेने से रोक दिया था।

इसके बाद 2016 एशियाई इंडोर एथलेटिक्स चैंपियनशिप, दोहा के 60 मीटर वर्ग में नए राष्ट्रीय रिकॉर्ड के साथ कांस्य पदक करने में धावक सफल रहीं। इसके बाद दुती ने रियो ओलिंपिक में भी हिस्सा लिया था। 2018 में दुती ने एशियन गेम्स, जकार्ता में दो रजत पदक जीतीं थीं। इतना ही नहीं, नापोली में 2019 समर यूनिवर्सियाड में दुती 100 मीटर रेस में स्वर्ण पदक जीतकर अंतरराष्ट्रीय पटल पर देश का नाम रोशन किया था। जिसके लिए देशभर में उनकी जमकर तारीफ हुई थीं। वहीं अब दुती ने अपने समलैंगिक पार्टनर संग शादी रचाकर अपनी नई दुनिया बसा ली है। ऐसे में उनके प्रशंसक उन्हें खूब बधाई दे रहे हैं।

Advertisement
Advertisement
Advertisement