Connect with us

दुनिया

चीनी घुसपैठ को लेकर भारत की जवाबी कार्रवाई से अमेरिका खुश, तारीफ में कह दी ये बड़ी बात

पोम्पियो ने कहा, ‘मैंने विदेश मंत्री एस जयशंकर से इस (चीन की आक्रामक गतिविधियों) के बारे में कई बार बात की है। चीन वालों ने अत्यंत आक्रामक गतिविधियां संचालित की हैं। भारतीयों ने उनका जवाब भी सर्वश्रेष्ठ तरीके से दिया है।’

Published

on

PM Modi and Donald Trump

नई दिल्ली। चीन के साथ जारी सीमा विवाद पर भारत को एक बार फिर अमेरिका का साथ मिला है। इतना ही नहीं अमेरिका ने लद्दाख में चीनी घुसपैठ को लेकर भारत की जवाबी कार्रवाई की भी जमकर तारीफ की है। गौरतलब है कि पूर्वी लद्दाख स्थित गलवान घाटी में दोनों देशों के सैनिकों के बीच 15-16 जून की दरमियानी रात हिंसक झड़प हो गई थी। इस झड़प में सेना के 20 जवान शहीद हो गए थे। वहीं, इस घटना में चीन के भी 43 जवान हताहत हुए थे। हालांकि, चीन ने हताहत हुए जवानों को लेकर कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया था।

PM Modi and Donald Trump

गलवान घाटी में भारत और चीन के बीच हालिया दिनों की तनातनी के मुद्दे पर अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा कि चीन की अत्यंत आक्रामक गतिविधियों का भारतीयों ने सर्वश्रेष्ठ तरीके से जवाब दिया है। पोम्पियो पूर्वी लद्दाख में भारतीय क्षेत्रों में चीन की घुसपैठ के संबंध में सवालों का जवाब दे रहे थे।

mike pompeo

माइक पोम्पियो मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि चीन की क्षेत्रीय विवादों को उकसाने की प्रवृत्ति रही है और दुनिया को यह धौंस चलने नहीं देनी चाहिए।

पोम्पियो ने कहा, ‘मैंने विदेश मंत्री एस जयशंकर से इस (चीन की आक्रामक गतिविधियों) के बारे में कई बार बात की है। चीन वालों ने अत्यंत आक्रामक गतिविधियां संचालित की हैं। भारतीयों ने उनका जवाब भी सर्वश्रेष्ठ तरीके से दिया है।’

अमेरिकी विदेश मंत्री ने आगे कहा कि दुनिया ने चीनी कम्युनिस्ट पार्टी का असली रंग देख लिया हैं और मैं पहले से कहीं ज्यादा आश्वस्त हूं कि दुनिया के मुक्त लोग खतरे को समझते हुए एक साथ आएंगे। दुनिया पर जनरल शी जिनपिंग का प्रभाव स्वतंत्र और लोकतंत्र प्रेमी लोगों के लिए अच्छा नहीं है।

India china army

चीनी सेना ने पीछे खींचे कदम, गलवान के बाद हॉट स्प्रिंग इलाके को भी किया पूरी तरह खाली

भारत सरकार के सख्त रवैया के अब आगे बेबस चीन दिखाई दे रहा है। पूर्वी लद्दाख में भारत की सख्ती और जोरदार जवाब के कारण चीन के आक्रामक रुख में अब नरमी दिखने लगी है। पूर्वी लद्दाख में चीन और भारत के बीच बीते दो महीने से जारी सीमा विवाद अब कुछ कम होता दिख रहा है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, चीन ने लद्दाख के एक विवादित इलाके से पूरी तरह से अपनी सेनाएं हटा ली हैं। सूत्रों ने बताया है कि लद्दाख के हॉट स्प्रिंग के पेट्रोल पॉइंट 15 से भारतीय-चीनी सैनिक 2 किलोमीटर पीछे तक हटे हैं।

India-China LAC

वहीं, सूत्रों का कहना है कि गोगरा के पेट्रोल पॉइंट 17A से जवानों को गुरुवार या शुक्रवार को दो किलोमीटर पीछे हटाया जाएगा। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, पैंगॉन्ग झील के पास फिंगर 4 इलाके में चीनी सेना की ओर से अभी गतिविधि दिख रही हैं। इस इलाके से चीनी सेना ने अपनी गाड़ियां और टेंट वगैरह हटा लिए हैं। हालांकि, रिज़ लाइन पर अभी भी मूवमेंट है। इससे पहले सोमवार को ही पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीन के सैनिक पीछे हटे थे। दोनों देशों की सेना हिंसक झड़प वाली जगह से 1.5 किलोमीटर पीछे हटी है।

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement