Connect with us

दुनिया

NASA Artemis-1 Rocket Launch: आज नहीं होगा नासा का सबसे शक्तिशाली रॉकेट लॉन्च, इस वजह से नहीं जाएगा चांद की ओर

NASA Artemis-1 Rocket Launch: बता दें कि करीब 30 मंजिला एसएलएस रॉकेट दुनिया का सबसे बड़ा रॉकेट है जो कि चांद पर भेजने के लिए नासा की तरफ से बनाया गया है। अर्टेमिस का पहला चरण माना जा रहा था इस पूरे मिशन का। जिसके जरिए नासा एक बार फिर से इंसान को चांद भेजने की तैयारी में नहीं बल्कि चांद पर बसाने की तैयारी करने जा रही है। 

Published

on

नई दिल्ली। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के महत्वकांक्षी मून मिशन यानी अर्टेमिस 1 को लेकर बड़ा कदम उठाने जा रही थी। लेकिन उससे पहले एक बड़ी जानकारी सामने आ रही थी जिस रॉकेट को पहले लॉन्च होना था फिलहाल कुछ गड़बड़ी के बाद काउंटाउडन रोक दिया गया  है। रॉकेट के इंजन नंबर 3 खराबी से लॉन्च टला गया है। नासा ने मिशन टलने की जानकारी दी है। नासा की ओर से चंद पर एक विशाल रॉकेट भेजने की तैयारी थी। करीब 6 बजकर 03 मिनट पर इस रॉकेट को चांद पर दागा जाना था। अमेरिका के फ्लोरिडा स्थिति केनेडी स्पेस सेंटर से अर्टेमिस 1 को लॉन्च किया जाना था। हालांकि नासा ने तरफ से इस बात की जानकारी अभी सामने नहीं आई है कि इसे कब लॉन्च किया जाएगा।

बता दें कि करीब 30 मंजिला एसएलएस रॉकेट दुनिया का सबसे बड़ा रॉकेट है जो कि चांद पर भेजने के लिए नासा की तरफ से बनाया गया है। अर्टेमिस का पहला चरण माना जा रहा था इस पूरे मिशन का। जिसके जरिए नासा एक बार फिर से इंसान को चांद भेजने की तैयारी में नहीं बल्कि चांद पर बसाने की तैयारी करने जा रही है।

नासा का आर्टेमिस-1 मिशन क्या है?

बता दें कि अर्टेमिस चांद पर भेजने की पहला चरण है। जिसकी आज से शुरुआत होने थी। अर्टेमिस-1 एक मानवरहित मिशन है इसमें आज कोई इंसान चांद पर नहीं जाने वाला था। इस मिशन का मकसद है कि चांद की तमाम जानकारी हासिल करना। इसके अलावा अंतरिक्ष यात्रियों के लिए स्थिति सही रहेगी या नहीं। इस तरह के तमाम आंकड़ो को जुटाना और ये तमाम जानकारियां जनाने के बाद वहां से सुरक्षित वापस लौटना इस मिशन का मकसद है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement