तुर्की की खतरनाक साजिश आई सामने, भाड़े के लड़ाकों को भेजेगा कश्मीर

Kashmir: कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान(Pakistan) को तुर्की से मजबूत समर्थन तो मिला लेकिन कई कोशिशों के बाद भी उसे कश्मीर पर सऊदी अरब और यूएई का समर्थन हासिल नहीं मिल पाया।

Avatar Written by: December 4, 2020 4:12 pm
turkey president

नई दिल्ली। कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने के बाद तुर्की ने भारत के खिलाफ लगातार पाकिस्तान का खुलकर साथ दिया। जिसपर भारत हमेशा से अपनी सख्त प्रतिक्रिया देता आ रहा है। अब एक बार फिर से कश्मीर को लेकर तुर्की नई साजिश रच रहा है। बता दें कि रिपोर्ट्स आ रही हैं कि तुर्की ईस्ट सीरिया के अपने लड़ाकों को कश्मीर भेजने की प्लानिंग कर रहा है। इसको लेकर ग्रीस के एक पत्रकार एंड्रीस माउंटजोरिलियास ने अपनी रिपोर्ट में तुर्की की इस साजिश का खुलासा किया है। दरअसल इस्लामिक दुनिया में तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप एर्दवान सऊदी के प्रभुत्व को चुनौती देना चाहते हैं और इसका खुद नेतृत्व कर मुख्य भूमिका में आना चाहते हैं। यही वजह है कि कश्मीर में भाड़े के लड़ाकों को भेजना भी उनकी इसी रणनीति का हिस्सा है। गौरतलब है कि पूर्वी भूमध्यसागर में लंबे समय से तुर्की ग्रीस-मिस्त्र-साइप्रस के खिलाफ अपना सैन्य गठजोड़ मजबूत कर रहा है।

turkey president

बता दें कि भूमध्यसागर में तुर्की अपने इस अभियान में पाकिस्तान की भी मौजूदगी स्थायी रूप से स्थापित करने में लगा है। इसके तहत, पाकिस्तानी रक्षा मंत्रालय के एयरक्राफ्ट और सेना की मौजूदगी को सुनिश्चित करना चाहता है। लिहाजा कश्मीर में भारत के खिलाफ तुर्की ने सीरियाई लड़ाकों को लड़ने के लिए भेजने की तैयारी शुरू कर दी है।

Turkey Pakistan

स्थानीय सूत्रों से मिली जानकारी के हवाले से रिपोर्ट में बताया गया है कि सीरियाई राष्ट्रीय सेना में शामिल हुए गैंग सुलेमान शाह के प्रमुख अबू एस्मा ने कहा है कि तुर्की कश्मीर को मजबूत होते देखना चाहता है। कश्मीर में लड़ने वाले लड़ाकों को लेकर सूची बनाई गई, इन्हें 2000 डॉलर की धनराशि दी जाएगी। इस पूरे मिशन में चुने गए लड़ाकों के नाम गोपनीय रखे गए हैं।

बता दें कि कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान को तुर्की से मजबूत समर्थन तो मिला लेकिन कई कोशिशों के बाद भी उसे कश्मीर पर सऊदी अरब और यूएई का समर्थन हासिल नहीं मिल पाया।

Support Newsroompost
Support Newsroompost