Shattila Ekadashi 2023: षटतिला एकादशी व्रत के दिन इन जरूर करें ये उपाय, जानिए क्या है शुभ मुहूर्त और पारण का समय

Shattila Ekadashi 2023: इस दिन जो भी सच्चे मन से विष्णु जी के लिए व्रत (shattila ekadashi Vrat) और आराधना करता है तो भगवान उसे मनोवांछित फल देते हैं। आप इस दिन कुछ उपाय भी कर सकते हैं जिससे आपको पुण्य की प्राप्ति होती है साथ ही नरक जाने से भी बचते हैं।

रितिका आर्या Written by: January 17, 2023 10:32 am

नई दिल्ली। माघ महीने की कृष्ण पक्ष की एकादशी को षटतिला एकादशी (shattila ekadashi) के नाम से जाना जाता है। इस साल 2023 में षटतिला एकादशी 18 जनवरी, बुधवार को मनाई जाएगी। जैसा कि नाम से ही साफ है कि इस दिन तिल का खास महत्व होता है। इस दिन तिल का छ: तरह से इस्तेमाल किया जाना चाहिए। भगवान विष्णु को समर्पित इस षटतिला एकादशी पर पूजा-पाठ के साथ ही व्रत का भी खास महत्व होता है। इस दिन जो भी सच्चे मन से विष्णु जी के लिए व्रत (shattila ekadashi Vrat) और आराधना करता है तो भगवान उसे मनोवांछित फल देते हैं। आप इस दिन कुछ उपाय भी कर सकते हैं जिससे आपको पुण्य की प्राप्ति होती है साथ ही नरक जाने से भी बचते हैं।

Shattila Ekadashi 2023: 18 जनवरी को मनाई जाएगी षटतिला एकादशी, इस विधि से पूजा करने पर मिलेगा भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी का आशिर्वाद

क्या है षटतिला एकादशी का शुभ मुहूर्त

इस साल 2023 में षटतिला एकादशी 18 जनवरी, बुधवार को मनाई जाएगी। पंचांग के मुताबिक, षटतिला एकादशी तिथि 17 जनवरी 2023 को शाम 6.05 बजे से शुरू हो रही है जो कि अगले दिन 18 जनवरी को शाम 4.03 बजे खत्म होगी। ऐसे में व्रत 18 जनवरी को ही रखा जाएगा।

Shattila Ekadashi 2023: कल मनाई जाएगी षटतिला एकादशी, भूलकर भी न करें ये 5 काम वरना…

Shattila Ekadashi 2023

तिल का जरूर करें इस्तेमाल

षटतिला एकादशी के दिन व्यक्ति को 6 तरीके से तिल का इस्तेमाल करना चाहिए। आप अपने नहाने के पानी में तिल डाल सकते हैं, खाने में तिल का सेवन, शरीर पर तिल का बना उबटन, हवन में तिल का अर्पित करके और तिल से तर्पण करें। भगवान विष्णु की कृपा पाने के लिए तो आपको इस एकादशी के दिन तिल का दान तो जरूर ही करना चाहिए।

Shattila Ekadashi 2023: 17 या 18 कब मनाई जाएगी षटतिला एकादशी, जानिए शुभ योग और क्यों है इस दिन तिल का महत्व

जरूर करें षटतिला एकादशी पर ये काम

  • इस दिन अपने मन और तन को स्वच्छ रखें।
  • दूसरों के लिए बुरे विचारों को मन में न लाएं साथ ही क्रोध लोभ, मोह, ईर्ष्या, अहंकार भी करने से बचें।
  • इस दिन पुष्य नक्षत्र में गोबर में कपास, तिल मिलाकर उपले बनाएं, इससे 108 बार आपको हवन करना चाहिए।
  • एकादशी के दिन अगर आप व्रत कर रहे हैं तो जमीन पर ही सोएं और हवन भी जरूर करें।
  • रात में आपको मन में भगवान का ध्यान करते हुए जागरण करना चाहिए।
  • एकादशी के दिन भगवान विष्णु को पेठा, नारियल, सीताफल या सुपारी का अर्घ्य दें।
  • अगले पारण वाले दिन धूप, दीप नैवेद्य से पहले भगवान विष्णु की पूजा करें।
  • अब उन्हें खिचड़ी का भोग लगाएं।