जानिए कंकण सूर्य ग्रहण पर करने योग्य उन उपाय या मन्त्रों को जिनको करने से होगा आपका कल्याण

कल 21 जून 2020 को होने वाले सूर्य ग्रहण में ग्रहण काल का स्पर्श प्रातः 9:15 से आरंभ हो जाएगा जिसका भाग्य स्पर्श 10:17 से आरंभ होगा ग्रहण का मध्य 12:09 तक तथा ग्रहण का उन्मूलन दोपहर 2:02 तक रहेगा पूर्णता ग्रहण की समाप्ति दोपहर 3:03 पर होगी। जानिए कंकण सूर्य ग्रहण पर करने योग्य उन उपाय या मन्त्रों को जिनको करने से आपका कल्याण होगा

नई दिल्ली। कल 21 जून 2020 को होने वाले सूर्य ग्रहण में ग्रहण काल का स्पर्श प्रातः 9:15 से आरंभ हो जाएगा जिसका भाग्य स्पर्श 10:17 से आरंभ होगा ग्रहण का मध्य 12:09 तक तथा ग्रहण का उन्मूलन दोपहर 2:02 तक रहेगा पूर्णता ग्रहण की समाप्ति दोपहर 3:03 पर होगी। इस दुर्लभ अवसर पर ज्योतिषाचार्य पंडित दयानन्द शास्त्री द्वारा प्रस्तुत है जनकल्याणार्थ साधनाएं।

ये हैं आपकी राशिनुसार मंत्र

विभिन्न राशियों में हम देखें तो मेष राशि के लिए ग्रहण अनुकूल है लेकिन फिर भी मेष राशि के जातक ग्रहण काल के समय ॐ अचिंत्याय नमः मंत्र का जाप करें।

वृषभ राशि के लिए है ग्रहण कुछ कष्ट और परेशानी देने वाला है अतः ओम अरुणाय नमः इस मंत्र का जाप करने से कष्ट से राहत मिलेगी।

मिथुन राशि के लिए यह ग्रहण छोटी बड़ी समस्याएं देने वाला तथा मानसिक रूप से विशेष अशांति देगा अतः ओम आदि भूताय नमः इस मंत्र का जाप करें ।

कर्क राशि के लिए आर्थिक हानि व मित्रों के साथ कलह से बचने के लिए ॐ वसुप्रदाय नमः मंत्र का जाप करें।

सिंह राशि के लिए यह ग्रहण यद्यपि लाभदायक है फिर भी मनोकामना पूर्ति के लिए ॐ भानवै नमः मंत्र का जाप करें।

कन्या राशि के जातक अपमान और कष्ट से बचने के लिए ॐ शांताय नमः इस मंत्र का जाप करें।

Solar eclipse

तुला राशि के जातक मानसिक अशांति व शारीरिक कष्टों से बचने के लिए ओम इंद्राय नमः इस मंत्र का जाप करें ।

वृश्चिक राशि के जातक दुर्घटना चोरी अज्ञात भय से बचने के लिए ओम आदित्याय नमः इस मंत्र का जाप करें।

धनु राशि के जातक अपने जीवन साथी के साथ परस्पर संबंधों को मधुर बनाने के लिए तथा व्यवसाय में परिवर्तन से बचने के लिए ॐ शर्वाय नमः मंत्र का जाप करें।

मकर राशि के जातकों के लिए ज्ञान अनुकूल है फिर भी पुण्य काल में ॐ सहस्त्र किरणाय नमः इस मंत्र का जाप करें।

कुंभ राशि के जातक नेत्र और मस्तिष्क की परेशानी से बचने के लिए तथा मानसिक चिंताओं से बचने के लिए ॐ ब्रह्मणे दिवाकराय नमः इस मंत्र का जाप करें।

मीन राशि के जातक कष्ट और हानि से बचने के लिए ॐ जयीने नमः इस मंत्र का जाप करें।

जिन जातकों को विशेष परेशानियां हैं जैसे शिक्षा कार्य में बाधा, विवाह में बाधा रोग मुक्ति ऋण मुक्ति, पदोन्नति इंटरव्यू परीक्षा में सफलता, रोजगार प्राप्ति और शीघ्र विवाह आदि इनके लिए कुछ मंत्र यहां प्रस्तुत हैं। इन मंत्रों का विशेष दिशाओं में मुख करके अभिषेक देवताओं का ध्यान कर जाप करने से निश्चित सफलता होगी।

संपूर्ण ग्रहण में इस मंत्र का करें जप

संपूर्ण ग्रहण काल में इसका जाप अवश्य करें, कम से कम 11- 11 माला तो अनिवार्य है तभी इसका लाभ प्राप्त होगा तथा ग्रहण के बाद भी इन मंत्रों का जाप एक माला प्रतिदिन करना अनिवार्य रहेगा। ध्यान रखें, मन्त्र जाप से पहले गुरु गणेश का स्मरण कर सङ्कल्प अवश्य करें।

शिक्षा , शीघ्र विवाह एवं कार्य हेतु उत्तर दिशा में मुंह करके भगवान विष्णु का ध्यान करें और ॐ तत्स्वरूपाय स्वाहा इस मंत्र का जाप करें।

शीघ्र विवाह के लिए उत्तर में मुंह रखकर देवी पार्वती का ध्यान करें – ॐ ह्रीं सोममण्डलात्मिके नमः का जाप करें।

पदोन्नति हेतु – उत्तर में मुख रखकर कुबेर का ध्यान करके ॐ श्रीं श्रीं हुँ स: कुबेराय नमः का जाप करें।

रोजगार प्राप्ति हेतु दक्षिण दिशा में मुंह करें भगवान कार्तिकेय का ध्यान करें  ॐ तं उं स: कार्तिकेय नमोस्तुते का जाप करें।

ऋण मुक्ति के लिए पूर्व में मुंह करके भगवान श्री कृष्ण का ध्यान करें ॐ क्लीं अर्कमण्डलात्मिके नमः का जाप करें।

विद्यार्थी वर्ग उत्तर में मुंह रखकर देवी सरस्वती का ध्यान करे ॐ ऐं अंकुशाय नमः का जाप करें।

इंटरव्यू में सफलता हेतु उत्तर दिशा में मुंह रखकर भगवान शिव का ध्यान करें ॐ वं मनोन्मनाय नम: का जप करें।