Connect with us

बिजनेस

Petrol Prices: 2026 तक पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर राहत संभव नहीं, वित्त मंत्री ने कांग्रेस को इसलिए बताया इसका जिम्मेदार

सीतारमण ने संसद में एक सवाल के जवाब में बताया कि यूपीए सरकार ने अपने कार्यकाल में सरकारी तेल कंपनियों को 2 लाख करोड़ के ऑयल बॉन्ड जारी किए थे। उस दौरान पेट्रोल और डीजल पर इन बॉन्ड के जरिए सब्सिडी दी गई थी। अब इस सब्सिडी पर लोगों को खर्च करना पड़ रहा है।

Published

on

nirmala 2

नई दिल्ली। अगले 5 साल तक पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों से निजात मिलने के आसार नहीं हैं। ये एलान खुद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में किया है। मंगलवार को राज्यसभा में वित्त मंत्री ने इसका ठीकरा यूक्रेन में जारी युद्ध और कांग्रेस की पूर्ववर्ती यूपीए सरकार के मत्थे मढ़ा। सीतारमण ने संसद में एक सवाल के जवाब में बताया कि यूपीए सरकार ने अपने कार्यकाल में सरकारी तेल कंपनियों को 2 लाख करोड़ के ऑयल बॉन्ड जारी किए थे। उस दौरान पेट्रोल और डीजल पर इन बॉन्ड के जरिए सब्सिडी दी गई थी। अब इस सब्सिडी पर लोगों को खर्च करना पड़ रहा है। उन्होंने बताया कि साल 2026 तक इन बॉन्ड की सीमा तय की गई थी। इसके मायने हैं कि अभी 5 साल तक लोगों को इसका खामियाजा भुगतना होगा।

petrol price

सीतारमण ने ये भी कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार के दौरान भी केंद्र ने तेल कंपनियों को बॉन्ड जारी किए थे, लेकिन उन बॉन्ड और यूपीए सरकार के दौरान जारी बॉन्ड में काफी अंतर है। उन्होंने कहा कि 10 साल पहले जो बोझ डाला गया था, उसका खामियाजा अब सबको चुकाना पड़ रहा है। बता दें कि यूपीए सरकार के दौरान भी अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के भाव 90 डॉलर से ज्यादा हो गए थे। तब सरकार ने बॉन्ड जारी कर आम जनता पर बोझ नहीं पड़ने दिया था।

petrol

सीतारमण ने ये भी कहा कि फिलहाल यूक्रेन युद्ध की वजह से कच्चे तेल के उत्पादन और उसकी सप्लाई पर बड़ा असर पड़ा है। मुद्रा के अवमूल्यन की वजह से भी कच्चा तेल महंगा खरीदना पड़ता है। उन्होंने कहा कि युद्ध खत्म होने पर कुछ राहत मिल सकती है। पेट्रोल और डीजल पर सेस और सरचार्ज लगाने के विपक्ष के आरोपों पर वित्त मंत्री ने कहा कि साल 2013 से अब तक सरकार ने शिक्षा और स्वास्थ्य सेस के जरिए 3.9 लाख करोड़ हासिल करने का अंदाजा लगाया था, लेकिन सेस से 3.8 लाख करोड़ का ही राजस्व आया है। उन्होंने बताया कि सेस से मिली ये धनराशि राज्यों में जारी केंद्रीय योजनाओं पर खर्च किया जाता है।

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement
Hero Splendor Electric Bike
ऑटो4 weeks ago

Hero Splendor Electric Bike: अब हीरो स्प्लेंडर का इलेक्ट्रिक धांसू अवतार मचाएगा तहलका, एक बार चार्जिंग पर दौड़ेगी इतने किमी, जानिए डिटेल

gd bakshi on agniveer protest
देश7 days ago

Agniveer Protests: ‘मत मारो अपने पैरों पर कुल्हाड़ी’, अग्निवीर मुद्दे पर उपद्रव कर रहे लोगों को सेना के पूर्व अफसर जीडी बख्शी की सलाह

देश3 weeks ago

Richa Chadha: नूपुर शर्मा विवाद पर ऋचा चड्ढा ने कसा तंज, लोगों ने लगाई एक्ट्रेस की क्लास कहा- ‘इस आंटी की….’

rajnath singh with service chiefs
देश5 days ago

Agneepath: अग्निवीरों की भर्ती के बाद सेना के लिए एक और बड़े फैसले की तैयारी में सरकार, होंगे ये अहम बदलाव

rakesh tikait
देश4 weeks ago

Rakesh Tikait: ‘वाह…वाह… मजा आ गया..!’, राकेश टिकैत पर स्याही फेंकने के बाद सोशल मीडिया पर आए लोगों के ऐसे रिएक्शन

Advertisement