खुशखबरी : दिसंबर तक भारत को मिल जाएगा कोरोना वैक्सीन, 30 करोड़ डोज होंगे तैयार

दरअसल पुणे स्थित सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया ने बताया कि ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका की ओर से विकसित की जा रही वैक्सीन के दिसंबर तक 30-40 लाख डोज तैयार हो जाएंगी। 

Avatar Written by: July 22, 2020 2:00 pm

नई दिल्ली। पूरी दुनिया वैश्विक महामारी कोरोना के प्रकोप से लगातार जूझ रही है। कोरोना की रोकथाम के लिए वैसे तो पूरी दुनिया में वैक्सीन पर काम चल रहा है लेकिन इस बीच कोरोना वैक्सीन को लेकर एक खुशखबरी आ रही है। दरअसल पुणे स्थित सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया ने बताया कि ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका की ओर से विकसित की जा रही वैक्सीन के दिसंबर तक 30-40 लाख डोज तैयार हो जाएंगी।

corona vaccine

एसआईआई के प्रमुख अदर पूनावाला ने बताया कि ऑक्सफोर्ड के लिए बनने वाली वैक्सीन में से 50 फीसदी भारत के लिए होगी। पूनावाला ने कहा कि कोविडशील्ड कोरोना महामारी को हराने वाली पहली कोरोना वैक्सीन हो सकती है अगर इसका परीक्षण ब्रिटेन और भारत में सफल रहता है। दुनिया में सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया सबसे बड़ा वैक्सीन मेन्युफेक्चरर (उत्पादक) है, इसे ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका ने वैक्सीन बनाने के लिए चुना है। एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की ओर से बनाई गई वैक्सीन का कोई साइड इफेक्ट नहीं है।

Truenet machine Corona Test

लैंसेट जर्नल में छपे वैक्सीन के परिणाम के अनुसार जिन लोगों को ये वैक्सीन दी गई है, उनमें मजबूत टी-सेल्स इम्यून रिस्पॉन्स दिखा है। अदार पूनावाला ने बताया कि वो अगस्त तक पांच हजार स्वैच्छिक भारतीयों पर कोविड-19 वैक्सीन का ट्रायल शुरू करेंगे और अगर सब कुछ सही रहा तो अगले साल जून तक वैक्सीन लॉन्च कर देंगे।

एक इंटरव्यू के दौरान पूनावाला ने कहा कि अगस्त तक वैक्सीन को बड़े स्तर पर उत्पाद करेंगे। दिसंबर तक हम 30-40 लाख डोज तैयार कर देंगे। अभी यही हमारा लक्ष्य है और उम्मीद है कि इसे पूरा कर लिया जाएगा। पूनावाला ने कहा कि साल 2021 की पहली तिमाही में भारत में बड़ी आबादी के पास वैक्सीन की पहुंच हो जाएगी।

Adar Poonawalla

पूनावाला ने कहा कि वैक्सीन को किफायती दाम में बेचा जाएगा, हमारी कोशिश है कि इसकी कीमत एक हजार रुपये के आस-पास या उससे कम रहे। हमें नहीं लगता कि किसी देश या उसके नागरिकों को इसे खरीदने की जरूरत पड़ेगी क्योंकि देश की सरकारें इसे खरीदेंगी और मुफ्त में बांटेंगी।

एसआईआई ने बताया कि बाजार में वैक्सीन को लॉन्च करने से पहले 30 करोड़ डोज बनाने को लेकर कंपनी ने करीब 200 मिलियन डॉलर को दांव पर रखा है। पुणे और मुंबई में विकासशील स्तर वाली वैक्सीन का चार से पांच हजार स्वैच्छिक लोगों पर परीक्षण किया जाएगा।

Support Newsroompost
Support Newsroompost