Connect with us

देश

Jammu Kashmir: घाटी में अमित शाह ने चला आरक्षण का बड़ा दांव, पहाड़ी समुदाय को लेकर किया ये ऐलान

शाह के राजौरी दौरे के बीच अगर किसी भी बात सर्वाधिक चर्चा थी, तो वो थी बक्करवाल, गुर्जर और पहाड़ी लोगों को आरक्षण दिलाने का मुद्दा। दरअसल, माना जा रहा था कि वे आगामी दिनों में इन तीनों ही समुदायों को आरक्षण देने का मुद्दा उठा सकते हैं। विगत कई वर्षों से यह समुदाय आरक्षण की मांग कर रहे है।

Published

on

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर में अतिशीघ्र ही चुनावी शंखनाद बजने वाला है। ऐसी स्थिति में सभी दलों की सक्रियता अपने चरम पर पहुंच चुकी है। घाटी के स्थानीय दलों को छोड़ दिया जाए तो बीजेपी से लेकर कांग्रेस तक के सियासी नुमाइंदे अब आगामी चुनाव को लेकर एक्शन मोड में आ चुके हैं। अब ऐसी स्थिति में घाटी के आगामी चुनावी दंगल में किसकी तूती बोलेगी। यह तो फिलहाल अब आने वाला वक्त ही बताएगा, लेकिन उससे पहले मंगलवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह तीन दिवसीय दौरे पर जम्मू-कश्मीर पहुंचे। जहां उन्होंने माता वैष्णो देवी मंदिर के दर्शन किए। इस बीच उन्होंने स्थानीय लोगों से मुलाकात की। जिसके बाद उन्होंने राजौरी में जनसभा को संबोधित किया। उन्होंने मुख्तलिफ मसलों का जिक्र कर जहां केंद्र की मोदी सरकार की उपलब्धियों से जनसभा में आए लोगों को अवगत कराया तो वहीं दूसरी तरफ अब्दुल्ला परिवार की भी जमकर क्लास लगाई।

आरक्षण का मुद्दा 

बता दें कि शाह के राजौरी दौरे के बीच अगर किसी भी बात सर्वाधिक चर्चा थी, तो वो थी बक्करवाल, गुर्जर और पहाड़ी लोगों को आरक्षण दिलाने का मुद्दा। दरअसल, माना जा रहा था कि वे आगामी दिनों में इन तीनों ही समुदायों को आरक्षण देने का मुद्दा उठा सकते हैं। विगत कई वर्षों से यह समुदाय आरक्षण की मांग कर रहे है, लेकिन अभी तक सरकार की ओर से इस दिशा में किसी भी प्रकार की कोशिश नहीं की गई थी, लेकिन आज शाह ने जनसभा में इन समुदायों को आरक्षण देने का ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार से इस संदर्भ में अनुशंसा की गई थी। अतिशीघ्र की इस अनुशंसा को अब धरातल पर उतारा जाएगा। बता दें कि शाह के इस ऐलान के बाद जनसभा में आए लोगों ने पीएम मोदी के नारे लगाए। उधर, माना जा रहा है कि अगर इन तीनों ही समुदायों को आरक्षण मिला तो आगामी चुनाव में बीजेपी को घाटी के 10 सीटों पर फायदा पहुंच सकता है। बहरहाल, अब आगामी दिनों में शाह का उक्त ऐलान क्या रुख अख्तियार करता है। इस पर सभी की निगाहें टिकी रहेंगी।

धारा 370 को लेकर कही ये बात

इस बीच शाह ने धारा 370 को लेकर अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि जब केंद्र सरकार ने घाटी के लोगों के हितों को ध्यान में रखते हुए धारा 370 को हटाया था, तो तीनों अब्दुल्ला परिवार को मिर्ची लग गई थी। लेकिन, हमारी सरकार ने लोगों के हितों को ध्यान में रखते हुए उक्त कदम उठाया था। बहरहाल, अब आगामी दिनों में घाटी के लोगों के लिए क्या कुछ कदम उठाए जाते हैं। इस पर सभी की निगाहें टिकी रहेंगी। तब तक के लिए आप देश दुनिया की तमाम बड़ी खबरों से रूबरू होने के लिए पढ़ते रहिए। न्यूज रूम पोस्ट.कॉम

Advertisement
Advertisement
Advertisement