Connect with us

देश

जो बीजेपी के हारने की दुआ कर रहे थे, अब केजरीवाल के दुश्मन बने, आदमी पार्टी की “त्रिमूर्ति” का जबरदस्त वार

कभी आम आदमी पार्टी की त्रिमूर्ति रहे नेताओं ने अरविंद केजरीवाल को जमकर लताड़ा है। दिल्ली हिंसा के मुद्दे पर केजरीवाल को जमकर खरी-खोटी सुनाई है।

Published

नई दिल्ली। कभी आम आदमी पार्टी की त्रिमूर्ति रहे नेताओं ने अरविंद केजरीवाल को जमकर लताड़ा है। दिल्ली हिंसा के मुद्दे पर केजरीवाल को जमकर खरी-खोटी सुनाई है।

दिल्ली की सत्ता पर काबिज आम आदमी पार्टी को दिल्ली हिंसा के मुद्दे पर निशाना बनाया जा रहा है। यहां तक कि आम आदमी पार्टी में अरविंद केजरीवाल के पुराने सहयोगियों प्रशांत भूषण, आशुतोष और कुमार विश्वास ने दिल्ली हिंसा पर केजरीवाल को खुलकर बेनकाब किया।

Ashutosh and arvind kejriwal

प्रशांत भूषण ने कहा “केजरीवाल अब आदर्श नहीं रह गए हैं, जो सही चीजों के लिए लड़ता था; जो राजनीति को बदलने के लिए राजनीति में उतरा था। लेकिन राजनीति ने ही उन्हें बदल दिया है। हैरानी की बात नहीं है कि दिल्ली दंगों के दौरान वह दिखाई नहीं दिए और ना ही न्याय के लिए खड़े हुए। अब वह सिर्फ राजनेता हैं, जिसके लिए वोट अहम हैं।”

prashant bhushan

केजरीवाल के पुराने सहयोगी आशुतोष ने भी उनके साथ कोई मुरव्वत नहीं की। आशुतोष में अपने लेख में लिखा कि केजरीवाल को दिल्ली का सीएम होने के नाते हिंसा प्रभावित इलाकों में जाना चाहिए था। इससे स्थानीय लोगों को भरोसा मिलता, लेकिन उन्होंने घर बैठना उचित समझा। केजरीवाल ने दंगों को लेकर केन्द्र सरकार के खिलाफ कोई बयानबाजी भी नहीं की।

कन्हैया कुमार के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा चलाने की इजाजत को लेकर भी आशुतोष केजरीवाल पर हमलावर हो गए हैं। उधर कुमार विश्वास भी दिल्ली हिंसा को लेकर अरविंद केजरीवाल को निशाने पर ले चुके हैं। बीते दिनों कुमार विश्वास ने केजरीवाल के एक पुराने ट्वीट को रिट्वीट किया, जिसमें केजरीवाल ने दिल्ली में रेप की घटनाओं को लेकर तत्कालीन सीएम शीला दीक्षित को ‘हेल्पलेस सीएम’ बताया था।

Arvind Kejriwal and Kanhaiya kumar

कुमार विश्वास ने ट्वीट करते हुए केजरीवाल पर सत्ता के लिए देश, सेना, जनता, सिद्धांत, बच्चे, मां-बाप को भी दांव पर लगाने का आरोप लगाया था।

Advertisement
Advertisement
Advertisement