दूसरे राज्‍यों में फंसे मजदूरों को लेकर योगी सरकार ने किया बड़ा फैसला

इस दौरान उन्होंने कहा, “दूसरे राज्यों में उत्तर प्रदेश के जिन श्रमिकों ने क्वारंटाइन की अवधि पूरी कर ली है, उनको हम वापस लाएंगे। इस दौरान उनकी सबसे पहले बॉर्डर पर विधिवत स्क्रीनिंग करेंगे। उसके बाद वह जिस जनपद के हैं वहीं पर उसे 14 दिन के लिए क्वारंटीन कराएंगे। जहां भी वापस लाए गए श्रमिकों को क्वांरटीन किया जाएगा वहां पूल टेस्टिंग की व्यवस्था की जाए। वापसी की यह प्रक्रिया चरणबद्ध होगी।”

Written by: April 24, 2020 4:07 pm

लखनऊ। राजस्‍थान के कोटा में फंसे छात्रों को वापस लाने के बाद अब उत्‍तर प्रदेश की योगी सरकार ने दूसरे राज्‍यों में फंसे अपने मजदूरों को भी वापस लाने का फैसला लिया है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को कहा कि दूसरे राज्यों से उत्तरप्रदेश के श्रमिकों और कामगारों को वापस लाया जाएगा। मुख्यमंत्री योगी आज यहां टीम 11 के सदस्यों के बैठक कर रहे थे।

इस दौरान उन्होंने कहा, “दूसरे राज्यों में उत्तर प्रदेश के जिन श्रमिकों ने क्वारंटाइन की अवधि पूरी कर ली है, उनको हम वापस लाएंगे। इस दौरान उनकी सबसे पहले बॉर्डर पर विधिवत स्क्रीनिंग करेंगे। उसके बाद वह जिस जनपद के हैं वहीं पर उसे 14 दिन के लिए क्वारंटीन कराएंगे। जहां भी वापस लाए गए श्रमिकों को क्वांरटीन किया जाएगा वहां पूल टेस्टिंग की व्यवस्था की जाए। वापसी की यह प्रक्रिया चरणबद्ध होगी।”

योगी ने कहा कि प्रयास यह हो कि यह केंद्र उनके गांव के ही आसपास हों। इन केंद्रों की सभी व्यवस्था की अभी से जांच करा लें। संबंधित अधिकारी दूसरे प्रदेशों की सरकारों से इस बावत बात कर श्रमिकों की सूची मंगवा लें ताकि उनकी संख्या के अनुसार बसों का बंदोबस्त किया जा सके। उन्होंने कहा, “इसके लिए शेल्टर होम आश्रय स्थल को खाली कर सेनेटाइज किया जाए। शेल्टर होम पर कम्युनिटी किचन के सुचारू संचालन के लिए सभी प्रबन्ध सुनिश्चित किये जाएं, ताकि इन लोगों के लिए ताजे व भरपेट भोजन की व्यवस्था हो सके।”

CM Yogi Meeting

उन्होंने निर्देश देते हुए कहा कि प्रदेश के विभिन्न जिलों में उत्तर प्रदेश के ही जो नागरिक क्वारांटाइन में हैं और 14 दिनों की अवधि पूरी कर चुके हैं उन्हें अपने घर भेज दें। सीएम योगी ने कहा, “प्रत्येक जनपद में कोविड तथा नॉन-कोविड अस्पताल चिह्न्ति किए जाएं। यह सुनिश्चित किया जाए कि कोरोना के मरीज उपचार के लिए केवल कोविड अस्पताल में ही भर्ती किये जाएं। इसी प्रकार अन्य रोगों के उपचार के लिए मरीज को नॉन-कोविड अस्पताल में भर्ती किया जाए।”

उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना प्रभावित क्षेत्रों को हॉटस्पॉट के रूप में चिह्न्ति करते हुए संक्रमण से बचाव के लिए अपनायी जा रही रणनीति अत्यन्त प्रभावी सिद्ध हो रही है। हॉटस्पॉट का यह यूपी मॉडल’ काफी लोकप्रिय हुआ है। मुख्यमंत्री ने पूल टेस्टिंग को बढ़ाने तथा एल-1, एल-2 तथा एल-3 चिकित्सालयों में बेड्स की संख्या में वृद्धि के निर्देश दिये।

yogi-adityanath

उन्होंने कहा, “ट्रेनिंग पर भी फोकस करने की आवश्यकता है। एल-2 चिकित्सालय में प्रत्येक बेड पर ऑक्सीजन तथा हर 10 बेड पर एक वेंटिलेटर उपलब्ध रहना चाहिए। एल-1 चिकित्सालय में प्रत्येक 5 बेड पर एक ऑक्सीजन सिलिण्डर सुनिश्चित किया जाना चाहिए।”

योगी ने कहा कि जनपद स्तर पर प्रशासन, पुलिस तथा मेडिकल की टीम आपसी समन्वय स्थापित करते हुए कार्य करें। कोरोना वायरस की चुनौती से निपटने के लिए टीम भावना के साथ कार्य करना आवश्यक है।