देश विरोधी गतिविधियों में शामिल दो चीनी नागरिकों को दिल्ली से किया गया गिरफ्तार

Delhi: मनी लॉन्ड्रिंग (Money Laundering) मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने दो चीनी नागरिकों पर कड़ी कार्रवाई की है। दरअसल ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में चीन के दो नागरिकों को गिरफ्तार किया है।

Avatar Written by: January 17, 2021 12:55 pm
charlie peng

नई दिल्ली। मनी लॉन्ड्रिंग (Money Laundering) मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने दो चीनी नागरिकों पर कड़ी कार्रवाई की है। दरअसल ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग मामले में चीन के दो नागरिकों को गिरफ्तार किया है। अधिकारियों ने रविवार को यह जानाकरी दी। जांच से जुड़े ईडी के एक अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, “ईडी ने लुओ सांग उर्फ चार्ली पेंग और कार्टर ली को शुक्रवार को धन शोधन रोकथाम कानून (पीएमएलए) के तहत गिरफ्तार किया।” अब खबर है कि दो चीनी नागरिकों को प्रवर्तन निदेशालय की 14 दिनों की रिमांड पर भेज दिया गया है। इन दोनों चीनी नागरिक पर आरोप है कि दिल्ली में रहकर चीन की कंपनियों के लिए बहुत बड़ा हवाला रैकेट का संचालन कर रहे थे और भारत सरकार को करोड़ों का राजस्व नुकसान पहुंचा रहे थे। इसके बाद आज ईडी ने बड़ा एक्शन लेते हुए दोनों को गिरफ्तार कर लिया।

charlie peng2

बता दें, बीते साल चार्ली पेंग के ठिकानों पर आयकर विभाग ने भी छापेमारी की थी। जिसके बाद दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने भी जल्द ही में चार्ली पेंग पर एफआईआर दर्ज की हुई है।

बता दें कि ईडी ने चार्ली पेंग के खिलाफ अगस्त में मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया था। इतने लंबे समय से ईडी चार्ली पेंग के सभी संदिग्ध लेन-देन की जांच कर रही थी। जांच में यह भी पता चला कि पेंग न केवल भारत में हवाला कारोबार में बल्कि तिब्बती धर्म गुरु दलाई लामा की जासूसी भी कर रहा था।

Enforcement Directorate

पेंग पर फर्जी भारतीय पासपोर्ट और झूठी कंपनियां बनाने का भी आरोप है। इन कंपनियों का उपयोग पेंग चीन से हवाला की रकम की आवाजाही के लिए करता था। वहीं, उसे 2018 में दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया था।

हिमाचल में पकड़े गए चीनी शख्स का PLA से निकला ये ‘कनेक्शन’ चार्ली पेंग के भी संपर्क में था

हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के कांगड़ा (Kangra) जिले की सीमा में दाखिल होते समय पकड़ा गया चीनी नागरिक (Chinese citizen) चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) का सैनिक निकला। दिल्ली में पकड़े गए चीनी नागरिक के दलाई लामा (Dalai Lama) लिंक को तलाशने में जुटी सुरक्षा एजेंसियों को जांच में यह जानकारी मिली है।

man arrested

चीनी नागरिक निकला पीएलए का सैनिक

सूत्रों के अनुसार हिमाचल पुलिस ने तिब्बती धर्मगुरु दलाईलामा की नगरी में घुसने से पहले आठ जुलाई को जिले की सीमा पर चीनी नागरिक लियू शियोडन को बिना दस्तावेज पकड़ा था। पकड़े जाने के समय जानकारी भी मिली थी कि वह नेपाल के रास्ते से अवैध रूप से भारत में आया था। उसके पासपोर्ट पर इमिग्रेशन की मुहर नहीं थी। चूंकि वह गैरकानूनी तरीके से दाखिल हुआ था, इसलिए फॉरेनर्स एक्ट के उल्लंघन के आरोप में उसके खिलाफ कार्रवाई की गई थी।

पूछताछ में मिली बड़ी जानकारी

कई चक्रों में हुई पूछताछ और उसके आधार पर हुई जांच में शियोडन के चीन की पीएलए में सेवारत रहने की जानकारी मिली। चूंकि वह काफी समय दिल्ली में रहा था, ऐसे में इस बात की पूरी आशंका जताई जा रही है कि वह दिल्ली में पकड़े गए चीनी नागरिक चार्ली पेंग के संपर्क में था जो दलाईलामा की जासूसी कर रहा था। करीब छह महीने तक दिल्ली में रहने के लिए दिल्ली वाले चीनी नागरिक ने शियोडन की मदद की है। इसके अलावा उसके कई लामाओं को भी पैसा देकर दलाईलामा की जानकारी हासिल करने की बात सामने आई है। ऐसे में माना जा रहा है कि उसने शियोडन को जासूसी के लिए दिल्ली से हिमाचल भेजा हो। ऐसे में सुरक्षा एजेंसियां अब दिल्ली और कांगड़ा में पकड़े गए चीनी नागरिकों के आपसी तार जोड़कर दलाईलामा की जासूसी के नेटवर्क को तोड़ने में जुट गई हैं।

चीन के निशाने पर हमेशा ही रहे दलाईलामा

तिब्बती धर्मगुरु दलाईलामा हमेशा ही चीन के निशाने पर रहे हैं। चीन के खिलाफ दलाईलामा देश दुनिया में मुखर रहे हैं, जिसकी वजह से चीन दलाईलामा को देशद्रोही मानता है। वहीं, हिमाचल में पहले भी कई बार चीनी नागरिक पकड़े गए हैं। 2019 में चार चीनी नागरिकों को हिमाचल पुलिस ने बद्दी में पकड़ा था। ये चारों पर्यटन वीजा पर देश में दाखिल हुए और हिमाचल में छिप गए। इस दौरान इनके भी धर्मशाला जाने की सूचना मिली थी, जिसके बाद केंद्रीय एजेंसियों ने उनकी जानकारी जुटाई थी। वहीं, फरवरी 2020 में भी पांच चीनी नागरिक बिना स्थानीय प्रशासन को सूचना दिए शिमला में होम स्टे लेकर रहते पकड़े गए थे।

Support Newsroompost
Support Newsroompost