5वें दौर की वार्ता भी रही बेनतीजा, 9 दिसंबर को फिर होगी सरकार और किसान नेताओं के बीच बात

Farmers Protest Updates: नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का शनिवार को 10वें दिन भी विरोध प्रदर्शन जारी है। आज  केंद्र सरकार के साथ किसानों की पांचवें दौर की बैठक होनी है।

Avatar Written by: December 5, 2020 8:30 am
farmers goverment meeting

नई दिल्ली। नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का शनिवार को 10वें दिन भी विरोध प्रदर्शन जारी है। आज  केंद्र सरकार के साथ किसानों की पांचवें दौर की बैठक होनी है। इस बातचीत से पहले किसानों ने अपना रुख और सख्त कर लिया है। बता दें कि बीते 9 दिनों से अपनी मांगों को लेकर दिल्ली बॉर्डर (Delhi Border) पर बैठे पंजाब और हरियाणा (Punjab And Haryana) के किसानों ने 8 दिसंबर को भारत बंद का ऐलान किया है।

farmer protest

अपडेट-

सिंघु बॉर्डर पर अभिनेता दिलजीत दोसांझ पहुंचे। उन्होंने कहा कि ट्विटर पर चीजों को घुमाया जाता है, मुद्दों को ना भटकाया जाए। हाथ जोड़कर विनती करता हूं, सरकार से भी गुजारिश है कि हमारे किसान भाइयों की मांगों को मान ले। यहां सब शांतिपूर्ण तरीके से बैठे हैं कोई खून-खराबा नहीं हो रहा है।

बिलासपुर, उत्तराखंड से आए किसान गाजीपुर बॉर्डर (यूपी-दिल्ली बॉर्डर) पहुंचकर, दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर जारी किसानों के विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए।

केंद्र सरकार के साथ विज्ञान भवन में पांचवें दौर की वार्ता में मौजूद किसानों ने अपने साथ लाए खाने को बांटकर खाया।

ग्रेटर नोएडा में पुलिस ने कुछ किसान प्रदर्शनकारियों को यमुना एक्सप्रेसवे पर हिरासत में लिया। किसान प्रदर्शनकारी पुलिस बैरिकेड तोड़कर नोएडा से दिल्ली जा रहे थे।

दिल्लीः केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, पीयूष गोयल की किसान नेताओं के साथ विज्ञान भवन में पांचवें दौर की वार्ता शुरू हुई।

किसान नेताओं की बस विज्ञान भवन पहुंची। कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर आज दोपहर 2 बजे किसान नेताओं के साथ बैठक करेंगे।

बिहार में RJD नेता तेजस्वी यादव ने पटना के गांधी मैदान में कृषि क़ानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा, “कृषि क़ानून किसान विरोधी हैं, हमारी मांग है कि जो किसान सड़कों पर आंदोलन कर रहें हैं उनकी सभी मांगों को पूरा किया जाए। हम किसानों की मांगों के साथ हैं।

कृषि कानूनों के खिलाफ टिकरी बाॅर्डर पर किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी है।

किसान नेताओं ने कृषि कानूनों के बारे में केंद्र सरकार के साथ पांचवें दौर की बातचीत के लिए विज्ञान भवन के लिए सिंघु बॉर्डर से रवाना हुए।

पीएम मोदी के साथ अमित शाह, राजनाथ सिंह, नरेंद्र तोमर और पीयूष गोयल की बैठक खत्म हो गई है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आवास से रवाना हुए।

किसान संयुक्त मोर्चा के प्रधान रामपाल सिंह ने कहा कि आज आर-पार की लड़ाई करके आएंगे, रोज-रोज बैठक नहीं होगी। आज बैठक में कोई और बात नहीं होगी, कानूनों को रद्द करने के लिए ही बात होगी।

NCP नेता नवाब मलिक ने कहा कि केंद्रीय सरकार की बैठक हो रही है, हमें लगता है कि सरकार को अपना अड़ियल रवैया छोड़ना होगा। किसानों की मांगों को मानना पड़ेगा, किसान क्या चाहता है उसे अनदेखा करना उचित नहीं है। किसान आंदोलन पूरे देश में फैलता जा रहा है इसलिए सरकार जल्द ही उनकी मांगे पूरी करें।

किसानों से बातचीत से पहले पीएम मोदी ने बैठक बुलाई है। जिसमें किसान मुद्दे पर बातचीत होगी। इस बैठक में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के अलावा गृहमंत्री अमित शाह, पीयूष गोयल और राजनाथ सिंह भी मौजूद हैं। ये बैठक पीएम आवास पर जारी है।

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि मैं आशावान हूं कि निश्चित रूप से किसान सकारात्मक दिशा में सोचेंगे और आंदोलन का रास्ता छोड़ेंगे।

कृषि कानूनों के खिलाफ टिकरी बाॅर्डर पर किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी है। एक प्रदर्शनकारी ने कहा, “सरकार बार-बार तारीख दे रही है, सभी संगठनों ने एकमत से फैसला लिया है कि आज बातचीत का आखिरी दिन है।”

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (DSGMC) ने सिंघू बॉर्डर पर विरोध कर रहे किसानों के लिए खाना बनाया। एक सेवक ने कहा, “हम दिन में तीन बार भोजन उपलब्ध करा रहे हैं।”

किसानों के समर्थन में कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Congress Leader Rahul Gandhi) ने शनिवार को एक बार फिर से ट्वीट किया है। राहुल गांधी ने ट्वीट कर लिखा, बिहार का किसान MSP-APMC के बिना बेहद मुसीबत में है और अब PM ने पूरे देश को इसी कुएं में धकेल दिया है। ऐसे में देश के अन्नदाता का साथ देना हमारा कर्तव्य है।

कृषि कानूनों के खिलाफ सिंघु बाॅर्डर पर चल रहे किसानों के विरोध प्रदर्शन को देखते हुए बाॅर्डर पर बड़ी संख्या में सुरक्षा बल तैनात है। आज कृषि मंत्री और किसान नेताओं के बीच पांचवें दौर की वार्ता होगी।

कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली-यूपी बाॅर्डर पर विरोध प्रदर्शन कर रहे किसान अभी भी डटे हुए हैं। केंद्र सरकार के साथ आज होने वाली बैठक पर एक प्रदर्शनकारी ने कहा, “हमें उम्मीद है कि मसला हल हो जाएगा, सरकार हमारी सुनेगी।”