कोरोनावायरसः तबलीगी जमात के मौलाना साद और अन्य के खिलाफ FIR

दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मौलाना के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है। इसके साथ ही मौके पर डॉक्टरों की एक टीम डेरा डाले हुए हैं।

Avatar Written by: March 31, 2020 7:50 pm

नई दिल्ली। दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मौलाना के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है। इसके साथ ही मौके पर डॉक्टरों की एक टीम डेरा डाले हुए हैं।

markaz kejriwals

दिल्ली के निज़ामुद्दीन मरकज़ मामले में दिल्ली पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है। एफआईआर मौलाना साद और अन्य के खिलाफ लिखी गई है। अब इस मामले की दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच करेगी। आज सुबह सीएम अरविंद केजरीवाल और सोमवार रात दिल्ली के हैल्थ मिनिस्टर सतेन्द्र जैन ने एलजी को एक खत लिखा था। खत में मरकज़ की इंतज़ामियां के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की सिफारिश की थी। गौरतलब रहे कि मरकज़ में भारतीयों सहित कुछ विदेशी रुके हुए थे। यह लोग तबलीगी जमात के एक जलसे में हिस्सा लेने आए हुए थे।

वहीं मरकज़ के वकील फैज़ुल अय्यूबी का कहना है कि मरकज़ की ओर से एसडीएम को कर्फ्यू पास के लिए लैटर लिखा गया था। 17 गाड़ियों के लिए पास की मांग की गई थी, जिससे की दूर रहने वाले लोगों को उनके घरों तक भेजा जा सके। 22 मार्च को जनता कर्फ्यू के चलते और उसके बाद लॉकडाउन के चलते कहीं भी निकलना मुश्किल हो गया था ट्रेन तक बंद हो चुकी थीं, तो दूर रहने वालों को भेजना मुश्किल था। 26 मार्च को हमें एसडीएम दफ्तर बुलाया गया और डीएम से भी बात कराई गई।

तबलीगी जमात से जुड़े उलेमाओं का दावा है कि जमात दुनिया के हर एक मुल्क में फैली हुई है। जमात से दुनियाभर में करीब 15 करोड़ लोग जुड़े हुए हैं। उलेमाओं का दावा है कि जमात कोई सरकारी मदद नहीं लेती है। जमात की अपनी कोई बेवसाइट, अखबार या चैनल नहीं है। भारत में जमात का हैड ऑफिस दिल्ली में हज़रत निजामुउद्दीन दरगाह के पास मरकज के नाम से है। जमात की एक खास बात ये है कि ये अपना एक अमीर (अध्यक्ष) चुनते हैं और उसी के अनुसार सारे कार्यक्रम होते हैं।