सीएम योगी ने की अनलाॅक व्यवस्था की समीक्षा, कहा- कोविड-19 के दृष्टिगत पूरी सतर्कता बरती जाए

उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने अपने सरकारी आवास पर एक उच्चस्तरीय बैठक की। जिसमें अनलाॅक व्यवस्था की समीक्षा की गई और जनपद मेरठ में विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिए।

Avatar Written by: November 8, 2020 4:10 pm
yogi

लखनऊ। उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने अपने सरकारी आवास पर एक उच्चस्तरीय बैठक की। जिसमें अनलाॅक व्यवस्था की समीक्षा की गई और जनपद मेरठ में विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 (Covid-19) के दृष्टिगत पूरी सतर्कता बरती जाए। जिन जनपदों में प्रतिदिन 50 से 100 तक कोविड-19 के मरीज आ रहे हैं उन जनपदों में भी विशेष सतर्कता बरती जाए। पब्लिक एड्रेस सिस्टम पूरी सक्रियता से संचालित किए जाएं, क्योंकि कोरोना से बचाव के लिए इस समय इनकी सक्रियता की बहुत आवश्यकता है।

CM Yogi Adityanath

उन्होंने कहा कि कोविड-19 से बचाव के लिए निर्धारित प्रोटोकाॅल का पूरी तरह से अनुपालन सुनिश्चित किया जाए। जनता मास्क का प्रयोग अनिवार्य रूप से करे इस संबंध में जागरूकता अभियान चलाया जाए। सोशल डिस्टेंसिंग का हर हाल में पालन हो। साफ-सफाई व सेनिटाइजेशन कार्य निरन्तर संचालित होता रहे। सभी अस्पतालों व चिकित्सा संस्थानों में फायर सेफ्टी का एनओसी अनिवार्य किया जाए। ‘उ.प्र. कामगार और श्रमिक (सेवायोजन एवं रोजगार) आयोग’ के निर्देशें के क्रम में कामगारों को रोजगार उपलब्ध कराते हुए इसकी निरन्तर समीक्षा जिलाधिकारी द्वारा की जाए।

धान क्रय के संबंध में मुख्यमंत्री ने कहा कि इसके लिए स्थापित केन्द्रों पर किसानों को कोई असुविधा नहीं होनी चाहिए और एमएसपी योजना का पूरा लाभ उन्हें मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि धान विक्रय से पहले किसानों को जागरूक किया जाए कि वे इसे अच्छी तरह से छानकर और सुखाकर ही विक्रय केन्द्र पर लाएं। जिन जनपदों में धान क्रय केन्द्रों की संख्या बढ़ाने की आवश्यकता हो, वहां के जिलाधिकारी अपने विवेक से इनकी संख्या बढ़ाना सुनिश्चित करें। उन्होंने गन्ना क्रय केन्द्रों को पूरी सक्रियता से संचालित करने के निर्देश दिए।

yogi

मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी मण्डलायुक्त शासन की योजनाओं के संबंध में निरन्तर समीक्षा करें। यह भी सुनिश्चित करें कि तहसील स्तर पर राजस्व विवादों का निस्तारण समय से किया जाए। विकास खण्ड स्तर पर बीडीओ भी निरन्तर माॅनिटरिंग करें। सरकार की मंशा है कि शासन की योजनाओं और विकास कार्यों का पूरा लाभ आमजन को मिले। इसके अलावा उन्होंने कहा कि थानों पर पूरी पारदर्शिता के साथ जनता की समस्याओं का समाधान सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने कहा कि थाना, तहसील तथा विकास खण्ड स्तर पर सभी कार्य समय से पूरे किए जाएं। जब भी छोटी इकाइयां अपना दायित्व भलीभांति निभाती है, तो इससे सकारात्मक परिवर्तन बड़े स्तर पर आता है। उन्होंने कहा कि तहसील, थाना तथा विकास खण्ड स्तर आमूल-चूल परिवर्तन दिखने चाहिए।

पराली जलाने पर किसानों के लिए बोले योगी

पराली के संबंध में भी उन्होंने बात की। सीएम योगी ने किसानों को पराली जलाने से होने वाले पर्यावरण प्रदूषण के संबंध में जागरूक करते हुए उन्हें इसे न जलाने के लिए कहा जाए। उन्हें यह भी बताया जाए कि खेतों में पराली जलाने से भूमि की उर्वरा शक्ति कम हो जाती है।

रैन बसेरों पर बोले सीएम

सीएम योगी ने कहा कि पर्व और त्योहारों के मद्देनजर अतिरिक्त सतर्कता बरती जाए। पटाखा बनाने वाली इकाइयां किसी भी दशा में आबादी के अन्दर स्थापित न होने पाएं। उन्होंने कहा कि ठंड के दृष्टिगत रैन बसेरों की स्थापना करते हुए उन्हें सभी सुविधाओं से युक्त किया जाए। इस अवसर पर मुख्य सचिव आरके तिवारी, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त आलोक टण्डन, पुलिस महानिदेशक हितेश सी अवस्थी, अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी, अपर मुख्य सचिव राजस्व रेणुका कुमार, अपर मुख्य सचिव एम एस एम ई एवं सूचना नवनीत सहगल, अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा डाॅ रजनीश दुबे, अपर मुख्य सचिव ग्राम्य विकास एवं पंचायतीराज मनोज कुमार सिंह, अपर मुख्य सचिव कृषि देवेश चतुर्वेदी, अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्रीएस पी गोयल, अपर मुख्य सचिव महिला कल्याण एवं बाल विकास श्रीमती एस राधा चैहान, प्रमुख सचिव पशुपालन भुवनेश कुमार, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एवं सूचना संजय प्रसाद, प्रमुख सचिव स्वास्थ्य आलोक कुमार, सचिव मुख्यमंत्री आलोक कुमार, सूचना निदेशक शिशिर सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित रहे।

Support Newsroompost
Support Newsroompost