Connect with us

देश

सीमा विवाद को लेकर पीएम मोदी से सवाल करना राहुल को पड़ा भारी, जनता ने ऐसे की फजीहत

राहुल ने को ट्वीट करते हुए लिखा, ‘प्रधानमंत्री ने चीनी आक्रमण के बाद भारतीय क्षेत्र को आत्मसमर्पित कर दिया। यदि भूमि चीनी थी तो हमारे सैनिक क्यों मारे गए? वे कहां मारे गए?’

Published

on

Rahul Gandhi

नई दिल्ली। लद्दाख स्थित गलवान घाटी में सोमवार रात को चीनी सैनिकों के साथ हुई हिंसक झड़प में एक कर्नल समेत 20 भारतीय जवानों की शहीद हो गए। जिसके बाद चीन को लेकर देशभर में गुस्से का मौहाल है। वहीं दूसरी ओर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी सीमा विवाद को लेकर राजनीति करने से बाज नहीं आ रहे है। राहुल गांधी लगातार सोशल मीडिया के जरिए केंद्र सरकार पर निशाना साधने में लगे हुए है। हालांकि हर बार इस मुद्दे को लेकर वह ट्विटर पर जमकर ट्रोल भी हो जा रहे है। ऐसा ही कुछ आज एक बार फिर राहुल गांधी के साथ हुआ है।

Rahul Gandhi

दरअसल कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शनिवार को सीमा विवाद को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल करते हुए कहा कि चाइनीज धरती थी तो हमारे सैनिक क्यों शहीद हुए? राहुल ने को ट्वीट करते हुए लिखा, ‘प्रधानमंत्री ने चीनी आक्रमण के बाद भारतीय क्षेत्र को आत्मसमर्पित कर दिया। यदि भूमि चीनी थी तो हमारे सैनिक क्यों मारे गए? वे कहां मारे गए?’


वहीं इस ट्वीट के बाद राहुल गांधी सोशल मीडिया पर लोगों के निशाने पर आ गए। लोगों ने राहुल गांधी की खिचाई करते हुए इस मुद्दे पर राजनीति ना करने की सलाह दे डाली। साथ ही लोगों ने राहुल बहाने कांग्रेस को भी निशाने पर ले लिया।

इससे पहले शुक्रवार को भी राहुल ने रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाईक के एक बयान से जुड़ी खबर का हवाला देते हुए ट्वीट किया, ‘यह बात पूरी तरह स्पष्ट हो चुकी है कि गलवां घाटी में चीन का हमला पूर्व नियोजित था। सरकार सो रही थी और समस्या से इनकार किया। हमारे शहीद जवानों को इसकी कीमत चुकानी पड़ी।’

Rahul gandhi

कांग्रेस नेता ने नाईक के बयान से जुड़ी जिस खबर का हवाला दिया उसके मुताबिक मंत्री ने कहा है कि भारतीय सैनिकों पर हमले की योजना चीन ने पहले से बना रखी थी और भारतीय सुरक्षा बल इसका करारा जवाब देंगे। केंद्रीय मंत्री ने अपने बयान में कहा कि यह राष्ट्रीय सुरक्षा का मामला है और इस पर कोई समझौता नहीं किया जाएगा। हम किसी को अपनी जमीन नहीं लेने देंगे। भारत की संप्रभुता और अखंडता की रक्षा की जाएगी।

 

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement