इस व्यक्ति की मदद का पत्रकार रोहित सरदाना ने किया अनुरोध तो भाजपा विधायक हर्ष सांघवी ने तुरंत लिया एक्शन

लॉकडाउन के दौरान पूरा देश मानो ठहर सा गया है जो जहां है वहीं रूका हुआ है। लोग अपनों से दूर हैं तो उनके लिए परेशानी और ज्यादा बड़ी है।

Written by: April 9, 2020 12:13 pm

नई दिल्ली। लॉकडाउन के दौरान पूरा देश मानो ठहर सा गया है जो जहां है वहीं रूका हुआ है। लोग अपनों से दूर हैं तो उनके लिए परेशानी और ज्यादा बड़ी है। सरकार के साथ ही देश के लोग और समाजसेवी संगठन पूरे देश में लोगों की मदद करने के लिए लगातार तैयार हैं। सड़कों पर उतरकर लोग एक दूसरे की सहायता कर रहे हैं ताकि इस विपदा की घड़ी से देश जल्दी ऊबर पाए।

ऐसे में जो भी परेशान है उसकी मदद के लिए प्रशासन भी आगे आ रहा है। इस महामारी से सबसे ज्यादा पीड़ित होनेवाले राज्यों में गुजरात का भी नंबर है। जहां फंसे एक शख्स के मां की मौत हो गई लेकिन लॉकडाउन की वजह से वह अपने मां के अंतिम संस्कार में शामिल कैसे हो यह उसकी समझ से परे हो गया था। इसके बाद गिरानी शर्मा नाम के इस व्यक्ति ने कई नेताओं और पत्रकारों को ट्वीटर के माध्यम से मदद की गुहार लगाई। जिसको तुरंत संज्ञान में लेते हुए पत्रकार रोहित सरदाना ने गुजरात के मुख्यमंत्री से अनुरोध किया की इसकी यथाशीघ्र मदद की जाए।

ट्वीट के जरिए संदेश मिलते हीं गुजरात सरकार और भाजपा के स्थानीय विधायक हर्ष सांघवी तुरंत मदद के लिए आगे आए और गिरानी शर्मा नाम के इस व्यक्ति को जिले के डीएम की तरफ से अपनी मां के अंतिम संस्कार में शामिल होने की परमिशन मिल गई। इस मामले पर ट्वीटर के जरिए ही रोहित सरदाना को भी हर्ष सांघवी ने जानकारी दी और बताया की उनकी बात को संज्ञान में लेते हुए उक्त व्यक्ति की मदद कर दी गई है।

इसके बाद गिरानी शर्मा नाम के इस व्यक्ति ने ट्वीटर के जरिए ही एक वीडियो संदेश जारी कर इलाके के डीएम, भाजपा के स्थानीय विधायक हर्ष सांघवी और रोहित सरदाना का शुक्रिया अदा किया और बताया की उन्हें इसके लिए अनुमति प्राप्त हो गई है और इन सब के प्रयासों से ही ऐसा संभव हो पाया है।


इससे पहले गिरानी शर्मा नाम के इस व्यक्ति ने एक लेटर और अपनी मृत मां की फोटो ट्वीट करते हुए इनलोगों से मदद की गुहार लगाई थी।


इसी ट्वीट पर पत्रकार रोहित सरदाना ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी से इस आदमी की तुरंत मदद करने का अनुरोध किया था।