ट्रंप को लेकर कांग्रेस में पड़ी ‘फूट’, ज्योतिरादित्य सिंधिया बोले, स्वागत कीजिए अमेरिकी राष्ट्रपति का

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को लेकर कांग्रेस में फूट पड़ गयी है। कांग्रेस ने जहां ट्रंप के स्वागत समारोह के बहिष्कार का फैसला लिया है वहीं कांग्रेस के ही कुछ बड़े नेता इसके खिलाफ राय रख रहे हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने उल्टे ट्रंप के स्वागत की बात कर दी।

Written by: February 24, 2020 10:21 am

नई दिल्ली। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को लेकर कांग्रेस में फूट पड़ गयी है। कांग्रेस ने जहां ट्रंप के स्वागत समारोह के बहिष्कार का फैसला लिया है वहीं कांग्रेस के ही कुछ बड़े नेता इसके खिलाफ राय रख रहे हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने उल्टे ट्रंप के स्वागत की बात कर दी। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि अमेरिका के राष्ट्रपति भारत में आ रहे हैं, उनका स्वागत होना चाहिए। अतिथि देवो भव हमारी परंपरा रही है। इसलिए उनके स्वागत की अच्छी तैयारी होनी चाहिए। इस बीच जो जरूरी मुद्दे हैं दोनों देशों के लिए, उन पर चर्चा भी होनी चाहिए।

jyotiraditya scindia and rahul gandhi

इससे पहले कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भारत दौरे पर हो रहे खर्च पर सवाल उठाए थे। उन्होंने लिखा था, “राष्ट्रपति ट्रंप के आगमन पर 100 करोड़ रुपये खर्च हो रहे हैं लेकिन ये पैसा एक समिति के ज़रिये खर्च हो रहा है। समिति के सदस्यों को पता ही नहीं है कि वो उसके सदस्य हैं। क्या देश को ये जानने का हक़ नहीं कि किस मंत्रालय ने समिति को कितना पैसा दिया? समिति की आड़ में सरकार क्या छिपा रही है?”

Priyanka Gandhi

उधर बीजेपी ने कांग्रेस के इस रुख पर जमकर हमला बोला है। बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि यह पहली बार है जब अमेरिका के कोई राष्ट्रपति अकेले भारत के लिए ही आ रहे हैं। जब भारत का क़द पूरे विश्व में बढ़ रहा है, तो कांग्रेस दुखी क्यों है? जब भी भारत खुश होता है, तो कांग्रेस दुखी क्यों होती है? जहां तक भारत के हितों का सवाल है, तो कांग्रेस को चिंता नहीं करनी चाहिए, क्योंकि ट्रंप साहब ने खुद कई बार कहा है कि भारत अपने हितों के लिए बहुत मोलभाव करता है।

Donald Trump And Narendra modi

बीजेपी ने कांग्रेस के पूर्व शासनकाल को भी आड़े हाथों लिया। बीजेपी की ओर से कहा गया कि आज भारत सरकार के मंत्री और सेक्रेटरी यूएस के अपने समकक्षों से बात करते हैं। क्या कांग्रेस ने ये छूट पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह को दी थी?”