Connect with us

देश

Delhi: दिल्ली में शराब पर मचे बवाल के बीच LG का बड़ा एक्शन, 11 अफसरों पर गिरी गाज

Delhi :आपको पता ही होगा कि बीते दिनों राजधानी दिल्ली में नई आबाकारी नीति को लेकर खूब विवाद हुआ था। बीजेपी ने आम आदमी पार्टी को निशाने पर लिया था तो आप ने बीजेपी पर पलटवार किया था, लेकिन इस बीच उपराज्यपाल वीके सक्सेना इस मसले को संज्ञान में लेने के उपरांत एक्शन मोड में आ गए हैं।

Published

on

नई दिल्ली। आपको पता ही होगा कि बीते दिनों राजधानी दिल्ली में नई आबाकारी नीति को लेकर खूब विवाद हुआ था। बीजेपी ने आम आदमी पार्टी को निशाने पर लिया था तो आप ने बीजेपी पर पलटवार किया था, लेकिन इस बीच उपराज्यपाल वीके सक्सेना इस मसले को संज्ञान में लेने के उपरांत एक्शन मोड में आ गए हैं। वे लगातार दिल्ली सरकार द्वारा लाई गई आबाकारी नीति के पीछे छुपे नापाक मंशा का पटाक्षेप कर आप सरकार को सवालिया कटघरे में खड़ा कर रहे हैं। जिसके बाद केजरीवाल सरकार को बीजेपी के विरोध का भी सामना करना पड़ा था, लेकिन आम आदमी पार्टी ने इसे बीजेपी द्वारा प्रतिशोध की राजनीति करार दिया था। ज्ञात हो कि बीते दिनों एलजी वीके सक्सेना ने नई आबाकारी नीति के खिलाफ जांच के आदेश दिए थे, जिस पर बीजेपी ने आप सरकार पर तंज कसते हुए कहा था अब सलाखों के पीछे जाने का अगला नंबर किसी और का नहीं, बल्कि सिसोदिया का है।

Corona And Dengue Cases Are Increasing In Delhi Lieutenant Governor VK Saxena Holds A Review Meeting ANN | Delhi: दिल्ली में बढ़ रहे हैं कोरोना और डेंगू के मामले, उपराज्यपाल वी के

अब इसी बीच इस पूरे मामले को लेकर एक बड़ी खबर सामने आई है। दरअसल, उपराज्यपाल वीके सक्सेना ने उन सभी अधिकारियों की लंबी फेहरिस्त तैयार कर ली है, जिन्होंने नई एक्साइज पॉलिसी बनाने और लागू करने के दौरान लापरवाही बरती है। बता दें कि उपराज्यपाल कई अधिकारियों को निलंबन के आदेश भी दिए हैं। आपको बता दें कि वीके सक्सेना ने इस पूरे मामले को संज्ञान में लेने के उपरांत शनिवार को एक्शन लेते हुए दिल्ली के तत्कालीन आबकारी आयुक्त अरवा गोपी कृष्ण और तत्कालीन उपायुक्त आनंद कुमार तिवारी के खिलाफ निलंबन और अनुशासनात्मक कार्यवाही शुरू करने के आदेश दिए हैं।  इसके साथ ही आबकारी विभाग के 9 अन्य अधिकारियों के खिलाफ निलंबन के आदेश दिए हैं।

इसमें टेंडर देने में अनियमितताएं पाने जाने और चुनिंदा विक्रेताओं को पोस्ट टेंडर लाभ प्रदान करना शामिल है। बहरहाल, फिलहाल, इस पूरे मसले को लेकर सियासत का सिलसिला जोरों-शोरों से जारी है, लेकिन अब आगामी दिनों में यह पूरा माजरा क्या रुख अख्तियार करता है। इस पर सभी की निगाहें टिकी रहेंगी। तब तक के लिए आप देश दुनिया की तमाम बड़ी खबरों से रूबरू होने के लिए आप पढ़ते रहिए ।न्यूज रूम पोस्ट.कॉम

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement