कोरोनावायरस : पीएम मोदी ने मुख्यमंत्रियों से की बात, कहा- लॉकडाउन का सख्ती से पालन हो

इससे पहले 22 मार्च को लगाए गए जनता कर्फ्यू से दो दिन पहले 20 मार्च को प्रधानमंत्री मोदी ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की थी। उस समय उन्होंने कोरोना के वैश्विक खतरे के प्रति मुख्यमंत्रियों को आगाह करते हुए पूरे देश को एकजुट होकर इसका सामना करने की जरूरत पर जोर दिया था।

Written by: April 2, 2020 2:19 pm

नई दिल्ली। गुरुवार को पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए राज्यों के मुख्यमंत्रियों से कोरोनावायरस संक्रमण के खिलाफ रणनीति बनाने को लेकर बात की। इस बैठक में पीएम मोदी के साथ गृह मंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी मौजूद रहे। इससे पहले 20 मार्च को(जनता कर्फ्यू लगने से पहले) पीएम मोदी ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की थी।

pm modi meeting with cm

2 अप्रैल को हुई बैठक में कोरोना संकट के उपजे मौजूदा स्थिति, विभिन्न राज्यों में फंसे प्रवासी मजदूरों के लिए चलाए जा रहे राहत कार्यों के साथ-साथ तबलीगी जमात के लोगों के विभिन्न राज्यों में जाने से उत्पन्न खतरे पर भी चर्चा हुई है। लॉकडाउन के बाद राज्य के मुख्यमंत्रियों के साथ प्रधानमंत्री की यह पहली बैठक है।

modi meeting cm

प्रधानमंत्री मुख्यमंत्रियों के साथ चर्चा के दौरान आम जनता तक सभी जरूरी सामान पहुंचाने और इसके लिए किए जा रहे इंतजामों पर बात की। प्रधानमंत्री ने सभी राज्यों से लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराने को कहा। उन्होंने सभी राज्यों से अपील की कि जिन राज्यों में जमात के लोग गए हैं, उन सभी लोगों को जल्द से जल्द अस्पताल में भर्ती कराया जाए। इसके अलावा प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना वायरस को लेकर सभी राज्यों से कहा कि हम मिलकर लड़ाई लड़ेंगे।

इससे पहले 22 मार्च को लगाए गए जनता कर्फ्यू से दो दिन पहले 20 मार्च को प्रधानमंत्री मोदी ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की थी। उस समय उन्होंने कोरोना के वैश्विक खतरे के प्रति मुख्यमंत्रियों को आगाह करते हुए पूरे देश को एकजुट होकर इसका सामना करने की जरूरत पर जोर दिया था। 24 मार्च को पूरे देश में किए गए लॉकडाउन के बाद से राज्यों को प्रवासी मजदूरों से लेकर कई तरह की समस्याओं से जूझना पड़ा है।

Lockdown Pic

बता दें कि अभी तक भारत में कोविड​​-19 मामलों की संख्या बुधवार को बढ़कर 1965 तक पहुंच गई, जबकि मरने वालों की संख्या बढ़कर 50 हो गई। कोरोना वायरस के मामलों में इजाफे के लिहाज से एक दिन में अब तक की सबसे अधिक बढ़ोतरी दर्ज की गई है और 437 मामले दर्ज किये गए। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह जानकारी दी। स्वास्थ्य मंत्रालय के लेटेस्ट आंकड़ों के मुताबिक,  कोविड-19 के 1764 रोगियों का इलाज चल रहा है, जबकि 150 लोग ठीक हो चुके हैं।