Connect with us

देश

NIA Raids: गैंगस्टर्स के टेरर फंडिंग से रिश्ते उजागर करने के लिए NIA का बड़ा एक्शन, 20 जगह ताबड़तोड़ छापेमारी

एनआईए ने इससे पहले भी इस मामले में देशभर में तमाम जगह छापेमारी कर चुकी है। उन छापेमारी से सनसनीखेज खुलासे भी हुए थे। ताजा छापों के बारे में बताया जा रहा है कि गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई से पूछताछ के बाद एनआईए ने छापेमारी की है।

Published

nia

नई दिल्ली। माफिया गैंगस्टर्स से रिश्तों और टेरर फंडिंग के मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी NIA ताबड़तोड़ छापेमारी कर रही है। जांच एजेंसी के सूत्रों के मुताबिक दिल्ली और एनसीआर के अलावा राजस्थान, पंजाब और हरियाणा में 20 जगह छापे मारे गए हैं। गैंगस्टर्स से जुड़े लोगों के घरों पर एनआईए का ये छापा चल रहा है। एनआईए ने इससे पहले भी इस मामले में देशभर में तमाम जगह छापेमारी कर चुकी है। उन छापेमारी से सनसनीखेज खुलासे भी हुए थे। अभी के छापों के बारे में सूत्रों का कहना है कि इसमें टेरर फंडिंग से गैंगस्टर्स और उनके लोगों का हाथ होने के बारे में सबूत जुटाए जा रहे हैं। माना जा रहा है कि जांच एजेंसी इस मामले में तमाम गिरफ्तारियां कर सकती है। बताया जा रहा है कि गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई से पूछताछ के बाद ये छापेमारी की जा रही है।

gangster lawrence bishnoi

गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई (फाइल फोटो)

इस मामले में एनआईए पहले ही जम्मू-कश्मीर में भी कई जगह छापे मार चुकी है। उन छापों में देशविरोधी गतिविधियों के सबूत जांच एजेंसी को मिले थे। कई आरोपियों को एनआईए ने गिरफ्तार भी किया था। जांच एजेंसी लगातार इस मामले में सक्रियता दिखा रही है। देश के खिलाफ आतंकवाद फैलाने वाले तत्व अब अपनी पहचान छिपाने के लिए स्थानीय गैंगस्टर्स का सहारा लेने लगे हैं। बीते दिनों राजस्थान-अहमदाबाद रेलवे ट्रैक पर विस्फोट मामले में भी खुलासा हो चुका है कि कुछ स्थानीय गैंगस्टर्स का साथ लेकर इस आतंकी वारदात को किया गया था।

arrest

बता दें कि कुछ महीने पहले ही एनआईए ने इस्लामी संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया PFI के देशभर के ठिकानों पर दो बार रेड की थी। इस दौरान इस संगठन के तमाम नेताओं को गिरफ्तार किया गया था। पीएफआई के नेताओं के बारे में एनआईए और ईडी ने आरोप लगाया है कि वे मनी लॉन्ड्रिंग के जरिए विदेश से हवाला के माध्यम से फंड उगाह रहे थे। जांच एजेंसियों को इस बारे में सबूत मिलने के बाद केंद्र सरकार ने पीएफआई को बैन करने का एलान किया था।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement