ओबामा ने अपनी किताब में पाक सेना के आतंकी लिंक पर किया बड़ा खुलासा, भारत के खिलाफ साजिश का भी लगाया आरोप

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा (Barack Obama) ने हाल ही में अपनी किताब ‘ए प्रोमिस्ड लैंड’ (A Promised Land) लॉन्च की है। जिसे भारत (India) में काफी पसंद किया जा रहा है। उन्होंने अपनी किताब में भारतीय राजनेताओं का भी जिक्र किया। जिसके बाद उनकी किताब भारत में तेजी से चर्चा में आई।

Avatar Written by: November 17, 2020 5:50 pm
barack obama, former us President

नई दिल्ली। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा (Barack Obama) ने हाल ही में अपनी किताब ‘ए प्रोमिस्ड लैंड’ (A Promised Land) लॉन्च की है। जिसे भारत (India) में काफी पसंद किया जा रहा है। उन्होंने अपनी किताब में भारतीय राजनेताओं का भी जिक्र किया। जिसके बाद उनकी किताब भारत में तेजी से चर्चा में आई। अब एक बार फिर देश में इस किताब की चर्चा काफी तेज हो गई है क्योंकि इसमें पाकिस्तानी सेना (Pakistani army) के भारत के खिलाफ आतंकी गतिविधियों में बारे में भी जिक्र किया है।

barack obama, former us President

ओबामा की इस किताब में दावा किया गया है कि पाकिस्तानी सेना के भारत के खिलाफ आतंकी गतिविधियों में शामिल है। इसके अलावा ओबामा ने अपनी किताब में आतंकी संगठन अल-कायदा के सरगना ओसामा बिन लादेन के खात्मे का भी जिक्र किया है। साथ ही भारत के खिलाफ पाक पर साजिश का आरोप भी लगाया है।

Osama Bin Laden

इसके अलावा उन्होंने अपनी किताब में कई बातों का जिक्र किया है। जिसमें लादेन के ठिकाने, लादेन का सीक्रेट ऑपरेशन और जो बाइडेन का जिक्र शामिल है। उन्होंने अपनी किताब में बताया है कि पाक को लादेन के ठिकाने के छापेमारी के दौरान क्यों शामिल नहीं किया गया, इसके अलावा उन्होंने बताया कि पाकिस्तानी सेना ISI तालिबान और शायद अल-कायदा के साथ संपर्क बनाए हुए है। साथ ही उन्होंने ये भी बताया कि पाक सेना कभी-कभी इन आतंकी संगठनों को अफगानिस्तान और भारत के खिलाफ इस्तेमाल भी करती है।

आगे उन्होंने लिखा, ‘जब हमें इस बात की जानकारी मिली ओसामा पाकिस्तान के बाहरी इलाके एबटाबाद में सुरक्षित ठिकाने में रह रहा है तो हमने यहां छापा मारने की योजना बनाई। इसके लिए जरूरी था कि यह योजना टॉप सीक्रेट रहे क्योंकि अगर इसकी जरा सी भी जानकारी लीक हो जाती तो हम कभी कामयाबी हासिल नहीं कर पाते। इसके अलावा हमने पाकिस्तान को इस योजना में शामिल नहीं करने का निर्णय लिया।’