Connect with us

देश

Agnipath scheme: सेना में अग्निवीर बनने का मौका, मोदी सरकार ने लॉन्च की अग्निपथ स्कीम, जानिए इस स्कीम के जरिए कैसे कर सकते हैं देश सेवा

Agnipath scheme: इस योजना के तहत चार साल के लिए युवाओं (अग्निवीर) को सेना में भर्ती किया जाएगा। चार साल पूरा होने के बाद ज्यादातर जवानों को उनकी सेवा से मुक्त किया जाएगा। सेना की नौकरी से मुक्त किए जाने के बाद इन्हें दूसरी जगह नौकरी दिलवाने में भी सेना अपनी सक्रिय भूमिका निभाएगी।

Published

on

aganipath YOGNA

नई दिल्ली। आज मंगलवार को देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सेना में भर्ती प्रक्रिया में बड़े बदलाव के लिए ‘अग्निपथ भर्ती योजना’ (Agnipath recruitment scheme) का ऐलान किया। इस योजना के तहत सेना के तीनों अंगों में जवानों की भर्ती का पुराना कायदा खत्म हो गया। अग्निपथ भर्ती योजना से अब कम समय की सेवा में ही युवाओं को अपने जोश और देश के प्रति जज्बे को दिखाने का मौका मिलेगा इसके अलावा युवा आगे के बेहतर करियर के लिए भी खुद को तैयार कर सकेंगे। इस योजना को सीडीएस रहे स्व. जनरल बिपिन रावत ने तैयार किया था। अब मोदी सरकार ने इस योजना को लागू कर दिया है। तो चलिए आपको बताते हैं कि आखिर अग्निपथ भर्ती योजना क्या है और युवाओं के लिए ये किस तरह फायदेमंद हो सकती है।

aganipath YOGNA

अग्निपथ भर्ती योजना के ऐलान के दौरान राजनाथ सिंह ने बताया कि इसके तहत सेना में चार साल के लिए युवाओं को भर्ती की जाएगी। जब वो नौकरी से छोड़ेंगे तो उन्हें सेवा निधि पैकेज मिलेगा। इस योजना के तहत जो युवा सेना में शामिल होंगे उन्हें अग्निवीर कहा जाएगा। सेना में भर्ती के दौरान युवाओं को आकर्षण वेतन मिलेगा सेना की चार साल की नौकरी के बाद इन युवाओं को आगे भविष्य के लिए और अवसरों के लिए भी सहायता दी जाएगी। इस योजना के तहत भर्ती किए जाने वाले ज्यादातर जवानों को चार साल बाद मुक्त कर दिया जाएगा लेकिन कुछ जवानों को नौकरी को जारी रखने का सुविधा मिलेगी।

इस योजना का लाभ 17.5 साल से लेकर 21 साल के युवा ले सकेंगे। इन्हें 10 हफ्ते से 6 महीने तक ट्रेनिंग दी जाएगी। जो 10/12वीं के छात्र हैं वो इसके लिए आवेदन कर सकेंगे।  पहली भर्ती 90 दिन अग्निवीरों की होगी।  अगर देश की सेवा के दौरान कोई अग्निवीर शहीद हो जाता है, तो उसके परिजनों को सेवा निधि समेत 1 करोड़ रुपए से ज्यादा की राशि ब्याज समेत दी जाएगी। इसके अलावा बाकी बची नौकरी का भी वेतन भी परिवार को दिया जाएगा। इसके अलावा अगर कोई अग्निवीर अपने काम के दौरान डिसेबल हो जाता है, तो उसे 44 लाख रुपए तक की राशि मुहैया कराई जाएगी। इसके अलावा बाकी बची नौकरी का भी वेतन भी दिया जाएगा। सेना के लिए होने वाली ये भर्तियां पूरे देश में मेरिट के आधार पर होंगी। जो लोग इन भर्ती परीक्षा में चुने जाएंगे केवल उन्हें ही चार साल के लिए नौकरी मिलेगी।

indian sena...

कितनी दी जाएगी सैलरी

रक्षा मंत्रालय के मुताबिक, इस अग्निपथ योजना के अंतर्गत युवाओं को पहले साल 4.76 लाख का सालाना पैकेज दिया जाएगा। चौथी साल तक ये रकम बढ़कर 6.92 लाख तक पहुंच जाएगी। इसके अलावा अन्य रिस्क और हार्डशिप भत्ते भी जवान को दिए जाएंगे। चार साल की नौकरी के बाद युवाओं को 11.7 लाख रुपए की सेवा निधि भी दी जाएगी साथ ही इसपर कोई टैक्स नहीं लगेगा।

क्यों लिया गया है फैसला

इस अग्निपथ योजना को लागू करने के फैसले के पीछे कई कारण है जैसे कि जिन जवानों को देश के दिल में सेना में शामिल होकर सेवा की भावना है उन्हें इससे मौका मिलेगा। युवाओं को सेना में शॉर्ट और लॉन्ग टर्म दोनों तरह की नौकरी का मौका मिल सकेगा। इस योजना के बाद तीनों सेनाओं में युवाओं की भागीदारी बढ़ेगी।

indian sena....

4 साल बाद सेवा से मुक्त कर दिए जाएंगे जवान

इस योजना के तहत चार साल के लिए युवाओं (अग्निवीर) को सेना में भर्ती किया जाएगा। चार साल पूरा होने के बाद ज्यादातर जवानों को उनकी सेवा से मुक्त किया जाएगा। सेना की नौकरी से मुक्त किए जाने के बाद इन्हें दूसरी जगह नौकरी दिलवाने में भी सेना अपनी सक्रिय भूमिका निभाएगी। इसके अलावा करीब 25 फीसदी जवान सेना में बने रह पाएंगे जो कि निपुण और सक्षम होंगे। हालांकि ये तभी संभव हो सकेगा जब उस समय सेना में भर्तियां निकली हों। सरकार के इस प्रोजेक्ट से सेना को करोड़ों रुपये की बचत भी हो सकती है। एक ओर जहां पेंशन कम पड़ेगी तो वहीं दूसरी तरफ वेतन में भी बचत हो जाएगी।

Advertisement
Advertisement
Advertisement