Uttar Pradesh: जल जीवन मिशन के तहत पीएम नरेंद्र मोदी कल देंगे उत्तर प्रदेश को सौगात

Uttar Pradesh: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) 22 नवम्बर, 2020 को जल जीवन मिशन (Jal Jeevan Mission), उत्तर प्रदेश के अन्तर्गत विंध्य क्षेत्र के जनपद मिर्जापुर एवं सोनभद्र की 23 ग्रामीण पाइप पेयजल योजनाओं का शिलान्यास वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से करेंगे।

Avatar Written by: November 20, 2020 8:00 pm
Narendra Modi And Yogi Adityanath

लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 22 नवम्बर, 2020 को जल जीवन मिशन, उत्तर प्रदेश के अन्तर्गत विंध्य क्षेत्र के जनपद मिर्जापुर एवं सोनभद्र की 23 ग्रामीण पाइप पेयजल योजनाओं का शिलान्यास वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से करेंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मुख्य कार्यक्रम स्थल ग्राम पंचायत करमांव, विकास खण्ड चतरा, जनपद-सोनभद्र से इस कार्यक्रम में सम्मिलित होंगे। इन योजनाओं की कुल लागत 5555.38 करोड़ रुपये है।

PM Narendra Modi

विंध्य क्षेत्र में पाइप पेयजल योजनाओं के जरिए शेष 2,995 राजस्व ग्रामों को लाभान्वित करने के लिए यह योजनाएं क्रियान्वित की जाएंगी। इन योजनाओं के पूर्ण हो जाने पर इन गांवों की 41,41,438 जनसंख्या को पाइप पेयजल सुविधा प्राप्त होगी।

Narendra Modi Yogi Adityanath

प्रधानमंत्री द्वारा घोषित जल जीवन मिशन के अन्तर्गत इन योजनाओं का क्रियान्वयन किया जा रहा है। योजनाओं के निर्माण के लिए फिजिबिलटी रिपोर्ट तैयार कराते हुए डीपीआर बनाने के लिए उच्च गुणवत्ता वाले कंसल्टेण्ट्स का चयन किया गया। इनके द्वारा सतही जल स्रोत आधारित 23 योजनाओं एवं भूगर्भ जल स्रोत आधारित 140 योजनाओं के माध्यम से विंध्य क्षेत्र के सभी ग्रामों को संतृप्त करने की डीपीआर तैयार की गयी। भूगर्भ जल स्रोत आधारित योजनाओं को सतही जल स्रोत आधारित योजनाओं के साथ क्लब किया गया है। इन योजनाओं के अन्तर्गत ग्रामीण परिवारों को 7,35,094 जल संयोजन प्रदान किये जाएंगे। इन योजनाओं का 10 वर्ष तक रख-रखाव भी निर्माण करने वाली संस्था द्वारा किया जाएगा।

Narendra Modi & yogi Adityanath

विंध्य क्षेत्र में कुल 3,393 राजस्व ग्राम हैं, जिनकी आबादी 45,40,829 है। इनमें से 398 ग्रामों को 126 पूर्ण तथा 17 निर्माणाधीन पाइप पेयजल योजनाओं से आच्छादित किया गया है। शेष 2,995 गांवों को पाइप पेयजल योजनाओं से आच्छादित करने के लिए मुख्यमंत्री द्वारा इन योजनाओं के संचालन का निर्णय लिया गया।