Connect with us

देश

Bharat Jodo Yatra: राहुल गांधी का बड़ा बयान, कहा- BJP-RSS के लोग जय सिया राम और हे राम क्यों नहीं बोलते

Bharat Jodo Yatra: उन्होंने कहा, भगवान राम एक जीने का तरीका थे। भगवान राम सिर्फ एक व्यक्ति नहीं थे। एक जिदंगी जीने का तरीका था। प्यार भाईचारा इज्जत तपस्या। उन्होंने पूरी दुनिया को जीने का तरीका दिखाया और गांधी जी जब हे राम कहते थे उनका मतलब था। जो भगवान राम है वो भावना हमारे दिल में है और उसी भावना को लेकर हमें जिदंगी जीनी है। ये है हे राम।

Published

Rahul Gandhi

नई दिल्ली। कांग्रेस सांसद राहुल गांधी भारत जोड़ो यात्रा को लेकर किसी ना किसी वजह से सुर्खियों में आ जाते है। कभी उनकी इस पदयात्रा में बॉलीवुड सितारे के शामिल होने पर चर्चा में आ जाते है, कभी वीर सावरकर को लेकर दिए बयान की वजह से विवादों में आ जाते है। इसके साथ ही वो अपनी भारत जोड़ो यात्रा के दौरान लगातार भाजपा और आरएसएस पर हमला बोल रहे है। शुक्रवार को मध्यप्रदेश के आगर मालवा में भारत जोड़ो यात्रा के दौरान एक जनसभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भगवान राम पर बड़ा बयान दिया है।

Rahul Gandhi

उन्होंने कहा, भगवान राम एक जीने का तरीका थे। भगवान राम सिर्फ एक व्यक्ति नहीं थे। एक जिदंगी जीने का तरीका था। प्यार, भाईचारा, इज्जत, तपस्या। उन्होंने पूरी दुनिया को जीने का तरीका दिखाया और गांधी जी जब हे राम कहते थे उनका मतलब था। जो भगवान राम है वो भावना हमारे दिल में है और उसी भावना को लेकर हमें जिदंगी जीनी है। ये है हे राम।

इसके अलावा अपने रैली में राहुल गांधी ने भाजपा और आरएसएस पर एक बार फिर हमला बोला। उन्होंने ये भी प्रश्न की आखिर क्यों भाजपा-आरएसएस वाले जय सिया राम या हे राम क्यों नहीं बोलते है। राहुल गांधी ने कहा कि, पंडित जी ने मुझसे पूछा कि आप अपनी स्पीच में पूछिए कि भाजपा के लोग जय श्रीराम करते है लेकिन कभी जय सिया राम और हे राम क्यों नहीं करते है। क्योंकि वो सबसे पहले आरएसएस और भाजपा के लोग जिस भावना से भगवान राम ने अपनी जिदंगी जी। उस भावना से अपनी जिदंगी नहीं जीते है वो लोग। क्योंकि राम ने किसी के साथ अन्याय नहीं किया। राम ने समाज को जोड़ने का काम किया। राम ने किसानों, मजदूरों,व्यापारियों सबकी मदद की।

राहुल गांधी ने कहा कि वो जय सिया राम तो नहीं कह सकते है क्योंकि उनके संगठन में एक भी महिला नहीं है। वो जय सिया राम का संगठन नहीं है। क्योंकि उनके संगठन में महिला तो नहीं आ सकती है। सीता तो आई नहीं सकती। सीता को बाहर कर दिया।

 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement