राजस्थान में कांग्रेस विधायक का शराब की दुकानें खोलने को कुतर्क, कहा शराब पीकर गले से वायरस होगा साफ

कांग्रेस शासित राजस्‍थान में कांग्रेस के ही एक विधायक ने मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखकर राज्‍य में शराब की दुकानों को खोलने की अनुमति दिए जाने की मांग की है।

Avatar Written by: May 1, 2020 3:31 pm

जयपुर। वैश्विक महामारी कोरोनावायरस के चलते भारत में सभी रेस्टोरेंट, क्लब, बाजार, सुपर मार्केट, और शराब की दुकानें बंद हैं। लोग धूम्रपान के लिए कई तरह की चीजों को अपना रहे हैं। इस बीच कांग्रेस शासित राजस्‍थान में कांग्रेस के ही एक विधायक ने मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखकर राज्‍य में शराब की दुकानों को खोलने की अनुमति दिए जाने की मांग की है।

सांगोद से विधायक भरत सिंह कुन्‍दनपुर ने मुख्‍यमंत्री को लिखे अपने पत्र में कहा है कि कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन के कारण शराब की दुकानें बंद हैं और शराब न मिलने से इसका अवैध कारोबार खूब फलफूल रहा है। इससे सरकार को राजस्‍व की हानि हो रही है और पीने वालों के स्‍वास्‍थ्‍य के लिए खतरा बढ़ रहा है।

बता दें कांग्रेस विधायक ने मुख्यमंत्री को लिखे अपने पत्र में शराब की दुकानें खोलने के लिए एक अजीब तर्क भी दिया है। उन्‍होंने लिखा है कि जब हाथों को एल्‍कोहल बेस्‍ड हैंडसेनेटाइजर से धोने पर कोरोना वायरस मर सकता है तो शराब पीने वाले के गले से भी वायरस साफ होगा। नकली शराब पीकर जान गंवानें से तो यह कहीं अच्‍छा है।

 

भरत सिंह ने यह भी कहा है कि राजस्‍थान सरकार ने वर्ष 2020-21 में शराब बिक्री से साढ़े बारह हजार करोड़ रुपए के राजस्‍व का लक्ष्‍य निर्धारित किया है। लॉकडाउन की वजह से यह लक्ष्‍य हासिल होगा ऐसा प्रतीत नहीं होता है। संभवत: सरकार ने इसी कारण एक्‍साईज ड्यूटी बढ़ाई है।

विधायक ने कहा कि इससे अच्‍छा तो यह होता कि सरकार शराब की दुकानें खोल दे। शराब पीने वालों को अच्‍छी शराब मिलेगीव सरकार को राजस्‍व का भी नुकसान नहीं होगा। गौरतलब है कि राजस्थान में लॉकडाउन के दौरान शराब की कलाबाजारी की कुछ खबरें सामने आई हैं, जिसको देखते हुए कांग्रेस विधायक ने ये अजीब सा तर्क दिया है।

Support Newsroompost
Support Newsroompost