Connect with us

देश

उप्र : गलत सूचना फैलाने वाले सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी पर मुकदमा

एक सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह के खिलाफ एक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर कोविड-19 स्थिति से निपटने के सरकारी प्रयासों से संबंधित ‘गलत सूचना’ पोस्ट करने के लिए मामला दर्ज किया गया है।

Published

on

Surya pratap singh IAS

लखनऊ। एक सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह के खिलाफ एक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर कोविड-19 स्थिति से निपटने के सरकारी प्रयासों से संबंधित ‘गलत सूचना’ पोस्ट करने के लिए मामला दर्ज किया गया है। उनके खिलाफ सचिवालय के पुलिस चौकी प्रभारी सुभाष सिंह द्वारा दायर शिकायत पर गुरुवार रात हजरतगंज पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया।

Surya pratap singh IAS

शिकायतकर्ता ने प्राथमिकी में जिक्र किया कि पूर्व नौकरशाह ने कुछ चीजें पोस्ट की थीं, जो सरकार के लिए गलत और अपमानजनक है।

सिंह ने ट्वीट किया कि एक वरिष्ठ नौकरशाह ने मुख्यमंत्री के साथ बैठक के बाद जिलाअधिकारियों को कोविड-19 के लिए ज्यादा टेस्ट कराने के लिए हड़काया था। कोविड-19 की कम जांच कराने को लेकर उन्होंने सरकार की रणनीति पर सवाल उठाया कि क्या वह कम जांच करके कोरोना के कम मामले दिखाना चाहती है।


हजरतगंज के सहायक पुलिस आयुक्त (एसीपी) अभय मिश्राने कहा, “पूर्व आईएएस अधिकारी के खिलाफ सरकारी आदेश की अवहेलना करने के लिए विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है, जनता के मन में डर पैदा करने के इरादे से अपराध किया गया।”

Surya pratap singh IAS

मिश्रा ने यह भी कहा कि पुलिस की साइबर सेल भी इस मामले में हजरतगंज पुलिस की मदद करेगी और जांच के बाद आईटी एक्ट की संबंधित धाराओं को शामिल किया जाएगा।

इस बीच, 1982 बैच के अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह ने कहा कि वह पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए जाने का इंतजार कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, “मैं इस कार्रवाई से स्तब्ध और हैरान हूं।”

Advertisement
Advertisement
Advertisement