Connect with us

देश

राहुल के सवाल पर विदेश मंत्री एस जयशंकर का पलटवार, बताया जवानों ने क्‍यों नहीं चलाए हथियार

विदेश मंत्री ने लिखा, ‘हमें तथ्यों को ठीक से समझ लेना चाहिए। बॉर्डर ड्यूटी पर लगे सभी सैनिक हमेशा हथियार के साथ होते हैं, खासकर पोस्ट से निकलते वक्त। 15 जून को गलवान में ड्यूटी पर तैनात सैनिकों के पास भी हथियार थे।’

Published

on

jaishankar and Rahul

नई दिल्ली। हर बार की तरह इस बार भी सरकार को घेरने के चक्कर में कांग्रेस नेता राहुल गांधी खुद ही घिर गए। राहुल गांधी को उनके द्वारा सोशल मीडिया पर पूछे गए सवालों का जवाब विदेश मंत्री एस जयशंकर से मिला है। राहुल के सवाल पर पलटवार करते हुए एस जयशंकर ने जो जवाब दिया उसकी कल्पना कांग्रेस नेता ने भी नहीं की होगी।

Rahul gandhi s

दरअसल भारत-चीन सीमा विवाद को लेकर राजनीति करने वाले कांग्रेस नेता राहुल गांधी को विदेश मंत्री एस जयशंकर ने करारा जवाब दिया है। राहुल ने ट्वीट के जरिए सरकार से सवाल करते हुए कहा कि हमारे सैनिकों को शहीद होने के लिए निहत्थे क्यों भेजा गया। विदेश मंत्री ने राहुल के इस बयान को सिरे से खारिज करते हुए उन्हें  मुंहतोड़ जवाब दिया है।

jaishankar and Rahul

राहुल गांधी के एक ट्वीट को रिट्वीट करते हुए विदेश मंत्री ने लिखा, ‘हमें तथ्यों को ठीक से समझ लेना चाहिए। बॉर्डर ड्यूटी पर लगे सभी सैनिक हमेशा हथियार के साथ होते हैं, खासकर पोस्ट से निकलते वक्त। 15 जून को गलवान में ड्यूटी पर तैनात सैनिकों के पास भी हथियार थे।’ जयशंकर ने चीनी सैनिकों के साथ खूनी झड़प के वक्त हथियारों का उपयोग नहीं किए जाने को लेकर स्थिति स्पष्ट की। उन्होंने लिखा, ‘गतिरोध के वक्त हथियारों का इस्तेमाल नहीं करने की लंबी परंपरा (19966 और 2005 समझौतों के तहत) रही है।’

jaishankar Tweet

राहुल गांधी ने गुरुवार को ट्वीट कर सवाल किया है कि चीन ने हमारे निहत्थे सैनिकों की हत्या की हिम्मत कैसे की? उन्होंने आगे लिखा, ‘हमारे सैनिकों को शहादत के लिए निहत्था क्यों भेजा गया?’

इसके साथ ही राहुल गांधी ने एक वीडियो संदेश जारी कर केंद्र सरकार पर हमला बोला। उन्होंने इस ट्वीट में लिखा, कौन ज़िम्मेदार है?

हालांकि इस ट्वीट को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी सोशल मीडिया पर यूजर्स के निशाने पर आ गए। यूजर्स ने अपनी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए राहुल की जमकर खिचाई कर डाली। इतना ही नहीं लोगों ने भारत-चीन विवाद को लेकर उलटा कांग्रेस से ही सवाल कर डाले।

 

पाकिस्तानी मीडिया में हीरो बन गए राहुल गांधी

भारत-चीन सीमा पर दोनों सेनाओं के बीच जो कुछ हुआ उसे पूरी दुनिया जान रही है। पूरी दुनिया यह भी जानती है कि चीन ऐसी ही कायराना हरकत बार-बार करता रहा है। हमने इस पूरे संघर्ष में अपने 20 जांबाज सिपाही खोए लेकिन चीन को भी इसका बड़ा नुकसान झेलना पड़ा चीन के भी 43 जवान इस पूरे घटनाक्रम में हताहत हुए। नरेंद्र मोदी ने इस पूरी घटना पर चीन को चेतावनी भी दी और कहा कि भार अपनी अखंडता और संप्रभुता बनाए रखने के लिए कुछ भी कर सकता है। लेकिन राहुल गांधी को इस पूरे मामले पर राजनीति के अलावा और कुछ नहीं दिखाई दिया। उन्होंने सेना के जवानों की शहादत को सलाम तो किया लेकिन इस पूरे घटनाक्रम को लेकर जमकर पीएम मोदी पर बरसे।

राहुल गांधी के इस सोशल मीडिया बयान को पाकिस्तान ने हाथों हाथ लिया और पाक मीडिया में एक बार फिर राहुल गांधी हीरो बन गए। हालांकि ये पहला मौका नहीं है। राहुल गांधी के सोशल मीडिया पर जारी किए गए बयाने को पाकिस्तान हाथोंहाथ लेता है और उन्हें वहां हीरो बनाता है। याद होगा कि कश्मीर दौरे से लौटाए जाने के बाद राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए दावा किया था कि वहां उन्हें उस बर्बरता का अहसास हुआ जिसको कश्मीरी झेल रहे हैं। राहुल के इस बयान को भी पाकिस्तान ने हाथोंहाथ लिया था और राहुल के बयान को तो यूएन तक भी लेकर पाकिस्तान चली गई थी। मतलब साफ है कि राहुल गांधी के ऐसे बयानों से पाकिस्‍तान के प्रॉपेगैंडा को बल मिलता है।

Rahul gandhi

यही आज फिर पाकिस्तान ने किया है। पाकिस्तानी मीडिया में राहुल गांधी के उस ट्वीट को प्रमुखता से जगह दी गई है। राहुल के बयान को पाकिस्तानी मीडिया के एंकर चटकारे ले लेकर खबरों को पेश करते समय पढ़ रहे हैं।

 

अपने ट्वीट में राहुल गांधी ने लिखा कि, ‘प्रधानमंत्री क्यों चुप हैं? वह क्यों छिप रहे हैं? अब बहुत हो गया। हम जानना चाहते हैं कि क्या हुआ है। चीन की हमारे सैनिकों को मारने की हिम्मत कैसे हुई? हमारी जमीन लेने की उसकी हिम्मत कैसे हुई?’

 

 

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement