वाराणसी: नेपाली युवक का मुंड़न करा लिखा जय श्रीराम, विश्व हिंदू सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष के खिलाफ मामला दर्ज

विश्व हिंदू सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष अरुण पाठक पर एक नेपाली युवक का सिर मुंडन करते हुए उसका वीडियो वायरल करना गुरुवार को महंगा पड़ गया।

Avatar Written by: July 17, 2020 8:16 pm

नई दिल्ली/वाराणसी। विश्व हिंदू सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष अरुण पाठक पर एक नेपाली युवक का सिर मुंडन करते हुए उसका वीडियो वायरल करना गुरुवार को महंगा पड़ गया। उनके विरुद्ध भेलूपुर थाने में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

Arun Pathak vishwa Hindu Sena

जब यह फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तो भेलूपुर पुलिस ने मामले को संज्ञान में लेते हुए मुकदमा दायर कर लिया है। आपको बता दें कि इस युवक के वीडियो को अरुण पाठक ने अपने फेसबुक पेज पर भी डाला है और वह उसमें अपने नाम के जिंदाबाद के नारे भी लगवा रहा है।

Arun Pathak vishwa Hindu Sena

नेपाली प्रधानमंत्री केपी ओली के उस बयान के बाद जिसमें उन्होंने भगवान राम को नेपाली और अयोध्या को नेपाल में बताया था, विश्व हिंदू सेना ने एक पोस्टर जारी किया था। उक्त पोस्टर में हिंदू सेना ने यह चेतावनी दी है कि नेपाली प्रधानमंत्री अपने बयान को वापस लेते हुए माफी मांगें नहीं तो भारत में नेपालियों को गंभीर परिणाम भुगतने होंगे।


इसके बाद विश्व हिंदू सेना के अध्यक्ष अरुण पाठक ने स्वयं गुरुवार को अपने फेसबुक पर नेपाली युवक के मुड़े हुए सिर और उसपर श्रीराम लिखी वीडियो डाल दी। आरोप है कि पाठक ने अस्सि घाट पर उक्त नेपाली युवक को पकड़ कर उसका मुंडन करवाया और उसके सिर में जय श्रीराम लिख दिया। आरोप यह भी है कि उक्त युवक से ओली मुर्दाबाद और जय श्रीराम के नारे लगवाए गए। इस संबंध में नगर पुलिस अधीक्षक ने कहा है कि आरोपी के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।

Arun Pathak vishwa Hindu Sena

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी ओली के भगवान श्रीराम को लेकर दिए गए बयान बाद पूरे भारत में रोष देखने को मिल रहा है। वाराणसी में विवादित पोस्टर विश्व हिंदू सेना ने जारी किया है। पोस्टर गंगा घाटों समेत नेपाली मंदिर पशुपतिनाथ के दीवारों पर चस्पा किया गया है।

Arun Pathak Varanasi

पोस्टर में लिखा गया है कि नेपाली पीएम ओली अपने बयान को वापस लें वरना गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। इस पोस्टर में वाराणसी में रहने वाले नेपाली नागरिकों के लिए भी परिणाम भुगतने की बात कही गई है। विश्व हिंदू सेना के कार्यकर्ताओं ने यह पोस्टर बनारस में अलग-अलग स्थानों पर चस्पा किया है, लेकिन सबसे ज्यादा यह पोस्टर नेपाली मंदिर के बाहर चस्पा किया गया है।