Connect with us

देश

UP News: ‘जहां पत्थर रख दो, वहीं मंदिर…’ अखिलेश के बयान पर संतों की नाराजगी, कहा- माफी नहीं मांगी तो…

UP News: इस मामले में अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत रवींद्र पुरी की भी प्रतिक्रिया सामने आई है। महंत रवींद्र पुरी का कहना है कि ज्ञानवापी मामले में नेताओं की बयानबाजी पर नजर रखने के लिए कमेटी का गठन किया जाएगा। ये एक पांच सदस्यीय कमेटी होगी जिसमें ऐसे महात्माओं को जगह दी जाएगी जो कानून की डिग्री लिए हुए हैं और उन्हें कानून की जानकारी है।

Published

on

akhilesh yadav

नई दिल्ली। ‘कहीं पर भी पत्थर रख दो, मंदिर बन गया’…ये हमारा नहीं बल्कि समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव का कहना है जिन्होंने ज्ञानवापी मामले में प्रतिक्रिया देते हुए ये बात कही थी। अखिलेश यादव ने हिंदू धर्म में मंदिरों के निर्माण को लेकर कहा था, ‘हमारे हिंदू धर्म में यह है कि कहीं पर भी पत्थर रख दो, एक लाल झंडा रख दो, पीपल के पेड़ के नीचे तो मंदिर बन गया’। अखिलेश यादव के इसी बयान पर अब साधु संतों की सबसे बड़ी संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद (Akhil Bharatiya Akhara Parishad) की प्रतिक्रिया सामने आई है। परिषद ने सपा प्रमुख द्वारा दिए गए इस बयान पर कड़ी नाराजगी जताते हुए माफ़ी की मांग की है।

Gyanvapi Row...

गर्माया हुआ है मंदिर और मस्जिद का मामला

बता दें, इस दिनों की देश की राजनीति में मंदिर और मस्जिद का मामला गर्माया हुआ है। हिंदू और मुस्लिम पक्ष आमने-आमने है। सड़कों से निकलकर ये मामला कोर्ट तक जा पहुंचा है। बात ज्ञानवापी मामले की करें तो इसपर एक के बाद एक हर राजनीतिक दल अपनी-अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। इन्हीं दलों में शामिल समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने भी इस मामले पर बयान दिया था। हिंदू धर्म में मंदिरों के निर्माण को लेकर बयान देते हुए अखिलेश यादव कहा था, ‘हमारे धर्म में ऐसा है कि आप कहीं भी पत्थर रख दो, एक लाल झंडा रख दो, पीपल के पेड़ के नीचे तो मंदिर बन गया’।

Varanasi Gyanvapi Case..

अखिलेश यादव का किया जाएगा बहिष्कार

अब उनके इस बयान पर संतों का कहना है, “अगर अखिलेश यादव माफी नहीं मांगते है तो प्रयागराज (Prayagraj) के 2025 के कुंभ (Kumbh) में उन्हें न्योता नहीं दिया जाएगा।” अखाड़ा परिषद के संतों ने कहा, “अगर इसके बाद भी अखिलेश कुंभ मेले में आएंगे तो उनका विरोध किया जाएगा। सार्वजनिक कार्यक्रमों में अखिलेश यादव का बहिष्कार किया जाएगा।”


कमेटी का किया जाएगा गठन

इस मामले में अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत रवींद्र पुरी की भी प्रतिक्रिया सामने आई है। महंत रवींद्र पुरी का कहना है कि ज्ञानवापी मामले में नेताओं की बयानबाजी पर नजर रखने के लिए कमेटी का गठन किया जाएगा। ये एक पांच सदस्यीय कमेटी होगी जिसमें ऐसे महात्माओं को जगह दी जाएगी जो कानून की डिग्री लिए हुए हैं और उन्हें कानून की जानकारी है। महंत रवींद्र पुरी ने कहा कि भले ही नेता धार्मिक मुद्दों पर हमारा समर्थन न करें तब भी कोई बात नहीं लेकिन इसका विरोध बिलकुल भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
file photo of ajmer dargah
देश4 weeks ago

Rajasthan: उदयपुर में हत्या और खादिमों की नूपुर पर हेट स्पीच का असर, पर्यटकों ने अजमेर दरगाह से बनाई दूरी, होटल बुकिंग भी करा रहे कैंसल

मनोरंजन3 days ago

Boycott Laal Singh Chaddha: क्या Mukesh Khanna ने Aamir Khan की फिल्म के बॉयकॉट का किया समर्थन, बोले-अभिव्यक्ति की आजादी सिर्फ मुस्लिमों के पास है, हिन्दुओं के पास नहीं

दुनिया1 week ago

Saudi Temple: सऊदी अरब में मिला 8000 साल पुराना मंदिर और यज्ञ की वेदी, जानिए किस देवता की होती थी पूजा

बिजनेस4 weeks ago

Anand Mahindra Tweet: यूजर ने आनंद महिंद्रा से पूछा सवाल, आप Tata कार के बारे में क्या सोचते हैं, जवाब देखकर हो जाएंगे चकित

milind soman
मनोरंजन5 days ago

Milind Soman On Aamir Khan: ‘क्या हमें उकसा रहे हो…’; आमिर के समर्थन में उतरे मिलिंद सोमन, तो भड़के लोग, अब ट्विटर पर मिल रहे ऐसे रिएक्शन

Advertisement