पार्श्वनाथ डेवलपर्स का सफर : प्रदीप जैन ने हाउसिंग को किया घर-घर में लोकप्रिय

पार्श्वनाथ समूह ने सन् 1984 में रियल एस्टेट क्षेत्र में प्रवेश किया था। प्रदीप जैन ने यह कंपनी निचले स्तर से शुरू की और इसे सिर्फ तीन दशकों में एक विशाल रूप दे दिया। यह उनके मार्गदर्शन और दूरदर्शी सोच की वजह से हुआ कि कंपनी ने भारत की तरक्की के इतिहास में नया अध्याय जोड़ा और भविष्य में बहुत से ऐसे अध्याय जोड़ने की तैयारी है।

Written by: March 12, 2020 5:28 pm

लड़खड़ाती जीडीपी और मंडराती आर्थिक सुस्ती के बीच सिर्फ रियल एस्टेट ही ऐसा सेक्टर है जो बेरोजगारी छंटनी और कमजोर पड़ती अर्थव्यवस्था को संभाले हुए है। विशेषज्ञों के अनुसार, 2020 में रियल एस्टेट ही आर्थिक तरक्की की नई इबारत लिखेगा।

मौजूदा वक्त में बहुतेरे रियल एस्टेट फर्म वजूद में हैं। परंतु पार्श्वनाथ डेवलपर्स ही ऐसे बड़े रिएलिटी फर्म में से एक है जो वजूद में आने के बाद से ही उद्योग में नई ऊंचाइयां स्थापति कर रही है और इस तरह से अर्थव्यवस्था को उबार रही हैं।

आज जबकि पार्श्वनाथ समूह घर-घर में एक विश्वसनीय नाम है तो इसका श्रेय इसके संस्थापक प्रदीप जैन को जाता है जिन्होंने पिछले कुछ दशकों में कंपनी की अतुलनीय तरक्की सुनिश्चित की है।

पार्श्वनाथ समूह ने सन् 1984 में रियल एस्टेट क्षेत्र में प्रवेश किया था और तब यह शैशवकाल में था। प्रदीप जैन ने यह कंपनी बिल्कुल नए सिरे से शुरू की और इसे सिर्फ तीन दशकों में एक विशाल रूप दे दिया। यह उनके मार्गदर्शन और दूरदर्शी सोच की वजह से हुआ कि कंपनी ने भारत की तरक्की के इतिहास में नया अध्याय जोड़ा और भविष्य में बहुत से ऐसे अध्याय जोड़ने की तैयारी में है।

प्रदीप जैन के बारे में संक्षिप्त विवरण-

पार्श्वनाथ डेवलपर्स के संस्थापक चेयरमैन प्रदीप जैन का जन्म सन् 1965 में हुआ। प्रदीप जैन अपनी पीढ़ी के पहले उद्यमी हैं जिन्होंने पार्श्वनाथ समूह के विकास की न केवल दिशा तय की बल्कि इसे भारत की अग्रणी रियल एस्टेट डेवलपमेंट कंपनियों के बीच ला खड़ा किया।

अपने खुद के बलबूते आगे बढ़ने वाले प्रदीप जैन ने अपने कैरियर की शुरुआत तमाम रियल एस्टेट डेवलपर्स के साथ बतौर मार्केटिंग सहायक (एसोसिएट) की थी। हाउसिंग कारोबार की बारिकियों को समझने के बाद उन्होंने 1984 में पार्श्वनाथ एसोसिएट्स प्राइवेट लिमिटेड शुरू किया। रियल एस्टेट सेक्टर में गहन तजुर्बा लेने के बाद जैन ने 1990 में पार्श्वनाथ डेवलपर्स लिमिटेड का आगाज किया जिसका मकसद पूरे देश में आधुनिक रियल एस्टेट प्रोजेक्ट डेवलप करने का था।

पिछले कई सालों में जैन ने अपनी प्रखर सोच को हकीकत में बदलने के लिए काफी तन्मयता से काम किया। नतीजतन कंपनी ने अब तक 65 प्रोजेक्टस पूर्ण कर लिए हैं और पूरे देश में विस्तार कर 14 राज्यों के कुल 39 शहरों में विशाल भूमि का अंबार लगा दिया है।

अपनी कारोबरी सूझबूझ और रियल एस्टेट सेक्टर पर पैनी पकड़ की वजह से प्रदीप जैन ने अपनी कंपनी को विभिन्न दिशाओं व देश के कोने-कोने में पहुंचा दिया है।

प्रदीप जैन पार्श्वनाथ डेवलपर्स लि. के संस्थापक चेयरमैन होने के अलावा एशियन पब्लिक रियल एस्टेट एसोसिएशन (APREA) के मैनेजमेंट बोर्ड के सदस्य भी हैं। इसके अलावा वह क्रेडाई (CREDAI)-नेशनल के पूर्व अध्यक्ष रह चुके हैं। साथ ही जैन इंटरनेशनल ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन (JITO) के अध्यक्ष हैं। ऑल इंडिया चेस फेडरेशन के वाइस प्रेसिडेंट हैं। पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (PHDCCI) के गवर्निंग बॉडी के सदस्य हैं और कई अन्य व्यापारिक, सामाजिक-सांस्कृतिक संगठनों से जुड़े हैं।

आपको बता दें कि वह महाराजा अग्रसेन अस्पताल ट्रस्ट, दिल्ली के ट्रस्टी और मुरादाबाद एजुकेशन ट्रस्ट के वाइस चेयरमैन हैं, जो इंजीनियरिंग, प्रबंधन और फार्मेसी कॉलेज चलाता है।

इनके अलावा प्रदीप जैन ने बच्चों में खेल की भावना विकसित करने में भी महत्वपूर्ण कार्य किया है। इसी क्रम में शतरंज चैंपियनशिप को भी इन्होंने प्रायोजित किया है।