Connect with us

दुनिया

Tension On Taiwan: पेलोसी के दौरे से बौखलाए चीन ने सेना से ताइवान को चौतरफा घेरा, अमेरिका ने दी ये चेतावनी

ताइवान दक्षिण-पूर्वी चीन से करीब 100 मील दूर एक द्वीप है। ताइवान खुद को संप्रभु राष्ट्र मानता है। ताइवान में लोगों की चुनी हुई सरकार है। वहीं, चीन की सरकार ताइवान को अपने देश का हिस्सा बताती है। चीन इस द्वीप को फिर से अपने नियंत्रण में लेना चाहता है।

Published

on

china military drill 1

ताइपे/वॉशिंगटन। अमेरिकी संसद की प्रतिनिधि सभा की स्पीकर नैंसी पेलोसी के दौरे के बाद अब ताइवान पर चीन के हमले का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है। चीन की सेना के तीनों अंगों ने आज से 7 अगस्त तक ताइवान के चारों तरफ युद्धाभ्यास करना शुरू किया है। इस युद्धाभ्यास के दौरान ताइवान के ऊपर से भी चीन की मिसाइलें दागी जाएंगी। चीन ने नागरिक विमानों की उड़ान इस इलाके से न करने की चेतावनी भी दी है। कुल मिलाकर चीन ने फिलहाल अपनी सेना के जरिए ताइवान को करीब-करीब घेर रखा है। इससे पहले बुधवार को पेलोसी के ताइवान से जाते ही चीन के 27 लड़ाकू विमान ताइवान की उड़ान सुरक्षा सीमा में दाखिल हुए थे।

china military drill

ताइवान के प्रति चीन के इस आक्रामक रुख को देखते हुए व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव केरिन ज्यां पियरे ने चेतावनी देने के अंदाज में कहा कि पेलोसी के दौरे को चीन संकट में बदलने की कोशिश न करे। वहीं, ताइवान ने कहा है कि वो हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार है। ताइवान के मुताबिक उसने चीन के किसी भी संभावित हमले को रोकने के लिए अपनी सेना को हाई अलर्ट पर रखा है। मिसाइल और विमान रोधी सुरक्षा कवच को सक्रिय किया है और अपनी नौसेना को भी गश्त लगाने के लिए कहा है। फिलहाल चीन के जहाज या विमान ताइवान की हवाई या समुद्री सीमा में नहीं घुसे हैं। बता दें कि चीन लगातार नैंसी पेलोसी के ताइवान दौरे का विरोध कर रहा था। उसने ताइवान समर्थक अमेरिका को चेतावनी भी दी थी कि आग से खेलने वालों के हाथ जल जाते हैं।

jean pierre white house

ताइवान दक्षिण-पूर्वी चीन से करीब 100 मील दूर एक द्वीप है। ताइवान खुद को संप्रभु राष्ट्र मानता है। ताइवान में लोगों की चुनी हुई सरकार है। वहीं, चीन की सरकार ताइवान को अपने देश का हिस्सा बताती है। चीन इस द्वीप को फिर से अपने नियंत्रण में लेना चाहता है। चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ताइवान के चीन से फिर एकीकरण की जोरदार वकालत करने वाले नेताओं में शामिल हैं। एक समय ताइवान चीन का ही हिस्सा हुआ करता था।

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
मनोरंजन2 weeks ago

Boycott Laal Singh Chaddha: क्या Mukesh Khanna ने Aamir Khan की फिल्म के बॉयकॉट का किया समर्थन, बोले-अभिव्यक्ति की आजादी सिर्फ मुस्लिमों के पास है, हिन्दुओं के पास नहीं

मनोरंजन6 days ago

Karthikeya 2 Review: वेद-पुराणों का बखान करती इस फ़िल्म ने लाल सिंह चड्डा के उड़ाए होश, बॉक्स ऑफिस पर खूब बरस रहे पैसे

दुनिया3 weeks ago

Saudi Temple: सऊदी अरब में मिला 8000 साल पुराना मंदिर और यज्ञ की वेदी, जानिए किस देवता की होती थी पूजा

milind soman
मनोरंजन2 weeks ago

Milind Soman On Aamir Khan: ‘क्या हमें उकसा रहे हो…’; आमिर के समर्थन में उतरे मिलिंद सोमन, तो भड़के लोग, अब ट्विटर पर मिल रहे ऐसे रिएक्शन

मनोरंजन1 week ago

Mukesh Khanna: ‘पति तो पति, पत्नी बाप रे बाप!..’,रत्ना पाठक के करवाचौथ पर दिए बयान पर मुकेश खन्ना की खरी-खरी, नसीरुद्दीन शाह को भी लपेटा

Advertisement