Telangana Assembly Elections 2023: बीजेपी के केवीआर कामरा रेड्डी ने दोनों सीएम उम्मीदवारों, BRS के केसीआर और कांग्रेस के रेवंत रेड्डी को दी मात

Telangana Assembly Elections 2023: जैसे ही कांग्रेस ने तेलंगाना विधानसभा चुनावों में महत्वपूर्ण बढ़त हासिल की, रेवंत रेड्डी पार्टी के भीतर एक प्रमुख व्यक्ति के रूप में उभरे, जो शीर्ष नेतृत्व के लिए प्रमुखता से तैनात थे, जिससे केसीआर और टीआरएस को झटका लगा।

Avatar Written by: December 3, 2023 6:03 pm

नई दिल्ली। टीआरएस ने तेलंगाना में हार स्वीकार करते हुए कांग्रेस को बधाई दी है। तेलंगाना में बीजेपी की आठ सीटों की बढ़त ने पीएम मोदी को राज्य के साथ मजबूत संबंधों की पुष्टि करते हुए आभार व्यक्त करने के लिए प्रेरित किया। तेलंगाना विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को मिली अच्छी बढ़त के बाद कांग्रेस नेता रेवंत रेड्डी ने एक अहम रैली की। पुराने हैदराबाद के निर्वाचन क्षेत्रों में, भाजपा ने 7 में से 3 सीटों पर बढ़त हासिल की, साथ ही एआईएमआईएम भी कई निर्वाचन क्षेत्रों में आगे रही।

बीजेपी उम्मीदवार केवीआर जीते

बीजेपी उम्मीदवार केवीआर कामारेड्डी विजयी हुए, उन्होंने टीआरएस के सीएम उम्मीदवार और कांग्रेस के सीएम उम्मीदवार दोनों को हरा दिया, जो एक बड़े उलटफेर का संकेत है। कांग्रेस के आदि श्रीनिवास ने वेमुलावाड़ा निर्वाचन क्षेत्र में 14,298 वोटों की बढ़त के साथ निकटतम प्रतिद्वंद्वी, बीआरएस उम्मीदवार चालिमादा लक्ष्मी नरसिम्हा राव के खिलाफ जीत हासिल की।

तेलंगाना कांग्रेस में रेवंत रेड्डी का उदय

जैसे ही कांग्रेस ने तेलंगाना विधानसभा चुनावों में महत्वपूर्ण बढ़त हासिल की, रेवंत रेड्डी पार्टी के भीतर एक प्रमुख व्यक्ति के रूप में उभरे, जो शीर्ष नेतृत्व के लिए प्रमुखता से तैनात थे, जिससे केसीआर और टीआरएस को झटका लगा। चुनाव आयोग ने जुक्कल और मेडक में कांग्रेस की जीत की घोषणा की, जबकि बीआरएस ने कुतबुलापुर सीट पर कब्जा कर लिया।

क्षेत्रीय दलों में, समाजवादी पार्टी (एसपी) ने वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए सबसे अधिक संपत्ति की घोषणा की, जबकि भारतीय राष्ट्रीय समिति (बीआरएस) दूसरे स्थान पर रही। इन दो वर्षों में द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके), बीजू जनता दल (बीजेडी) और जनता दल (यूनाइटेड) की संपत्ति में सामूहिक रूप से 95% की वृद्धि हुई। वित्त वर्ष 2020-21 और 2021-22 के बीच आम आदमी पार्टी की संपत्ति में 71.76% की उल्लेखनीय वृद्धि देखी गई, जो 21.82 करोड़ से बढ़कर 37.477 करोड़ हो गई।

Latest