विकास दुबे एनकाउंटर पर राजनीति करने वाले कांग्रेसियों को जनता ने सुनाई जमकर खरी-खोटी

प्रियंका गांधी ने ट्विटर के माध्यम से कुख्यात अपराधी विकास दुबे की एनकांउटर की दौरान मौत को लेकर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि “अपराधी का अंत हो गया, अपराध और उसको संरक्षण देने वाले लोगों का क्या होगा।”

Written by: July 10, 2020 11:04 am

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के कानपुर में आठ पुलिस जवानों की हत्या करने का आरोपी विकास दुबे मध्य प्रदेश के उज्जैन से कानपुर ले जाते समय कार पलटने के बाद भागने की कोशिश में शुक्रवार को मारा गया है। विकास दुबे के एनकाउंटर में मारे जाने के बाद विपक्ष की प्रतिक्रियाएं सामने आने लगी हैं विपक्ष लगातार सवाल उठा रहा है। लेकिन विकास दुबे को लेकर सवाल उठाना विपक्ष को महंगा पड़ रहा है। एक तरफ जहां लोगों सोशल मीडिया के जरिए यूपी सरकार और पुलिस का समर्थन कर रहे है तो वहीं विपक्ष को जमकर लताड़ लगा रहे है।

प्रियंका गांधी ने ट्विटर के माध्यम से कुख्यात अपराधी विकास दुबे की एनकांउटर की दौरान मौत को लेकर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि “अपराधी का अंत हो गया, अपराध और उसको संरक्षण देने वाले लोगों का क्या होगा।”

विकास दुबे के मारे जाने की खबर के बाद कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि विकास दुबे एनकाउंटर में मारा गया। कई लोगों ने पहले ही ये आशंका जताई थी। पर अनेकों सवाल छूट गए।

1. अगर उसे भागना ही था, तो उज्जैन में सरेंडर ही क्यों किया?
2. उस अपराधी के पास क्या राज थे जो सत्ता-शासन से गठजोड़ को उजागर करते?
3. पिछले 10 दिनों की कॉल डिटेल्ज़ जारी क्यों नहीं?

विकास दुबे एनकाउंटर पर दिग्विजय ने उठाए सवाल

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने सवाल उठाते हुए कहा है कि अब विकास और राजनेताओं व पुलिस अफसरों का संपर्क उजागर नहीं हो पाएगा। विकास दुबे के मुठभेड़ में मारे जाने के बाद दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर कहा कि जिसका शक था वह हो गया। विकास दुबे का किन-किन राजनीतिक लोगों से, पुलिस व अन्य शासकीय अधिकारियों से संपर्क था, अब उजागर नहीं हो पाएगा। पिछले तीन-चार दिनों में विकास दुबे के दो अन्य साथियों का भी एनकाउंटर हुआ है लेकिन तीनों एनकाउंटर का पैटर्न एक समान क्यों है?

digvijay singh

दिग्विजय सिंह ने जांच की मांग करते हुए कहा कि यह पता लगाना आवश्यक है विकास दुबे ने मध्य प्रदेश के उज्जैन महाकाल मंदिर को सरेंडर के लिए क्यों चुना? मध्यप्रदेश के कौन से प्रभावशाली व्यक्ति के भरोसे वो यहां उत्तर प्रदेश पुलिस के एनकाउंटर से बचने आया था?

यहां देखिए जनता ने कुछ ऐसे लगाई कांग्रेस नेताओं की क्लास-

ज्ञात हो कि मध्य प्रदेश में उज्जैन के महाकाल मंदिर के बाहर पकड़ा गया दुर्दात विकास दुबे शुक्रवार को कानपुर में उत्तर प्रदेश एसटीएफ के साथ मुठभेड़ में ढेर हो गया। कानपुर के चौबेपुर के बिकरू गांव में सीओ सहित आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के मुख्य आरोपित विकास दुबे की कानपुर में एसटीएफ के साथ मुठभेड़ हो गई।

कानपुर के एसएसपी दिनेश कुमार ने विकास दुबे के मुठभेड़ में मारे जाने की पुष्टि की है। एसएसपी दिनेश कुमार के मुताबिक गाड़ी पलटने के बाद विकास दुबे पुलिस वालों के हथियार लेकर भाग रहा था। पुलिस ने उसे रोकने की कोशिश की तो उसने फायरिंग की और जवाबी कार्रवाई में विकास दुबे मुठभेड़ में मारा गया।