कांग्रेस की नजर अब देशभर के मंदिर ट्रस्टों के सोने पर, भड़क उठे संत

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने केंद्र सरकार से मांग की है कि राष्ट्र को आर्थिक संकट से उबारने के लिए देशभर के मंदिर ट्रस्टों के पास पड़ा सोना सरकार अपने कब्जे में ले ले।

Written by: May 14, 2020 4:00 pm

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने केंद्र सरकार से मांग की है कि राष्ट्र को आर्थिक संकट से उबारने के लिए देशभर के मंदिर ट्रस्टों के पास पड़ा सोना सरकार अपने कब्जे में ले ले। चव्हाण ने कहा कि यह सोना राष्ट्र की संपत्ति है और राष्ट्र के लिए इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। उन्होंने केंद्र सरकार को यह भी सुझाव दिया कि अगर केंद्र सरकार चाहे, तो 1 या 2% ब्याज पर यह सोना मंदिर ट्रस्टों से लिया जा सकता है।

इस संदर्भ में चव्हाण ने अंतरराष्ट्रीय संस्था वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल का हवाला देते हुए कहा कि देश के मंदिर ट्रस्टों के पास लगभग 1 ट्रिलियन डॉलर अर्थात 75 लाख करोड़ रुपये मूल्य का सोना पड़ा हुआ है।


चव्हाण ने कहा कि केंद्र सरकार ने 20 लाख करोड़ रुपए का पैकेज घोषित किया है उसका स्वागत है लेकिन इसमें वो रकम भी शामिल है जो पहले ही रिजर्व बैंक कर्ज के तौर पर देने का ऐलान कर चुका है। ऐसे में कोरोना से पटरी से उतरी अर्थ व्यवस्था को ठीक करने, लोगों की जिंदगी बचाने और उनकी क्रय शक्ति बढ़ाने के लिए धार्मिक ट्रस्टों के पास रखा सोना सरकार अपने कब्जे में ले।

कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण की इस मांग पर भड़क गए संत

पृथ्वीराज चव्हाण की इस मांग स्‍वामी परमहंस और महंत कमल नयन दास ने इस पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि इससे पहले कि धमार्थ न्‍यासों से सोना लिया जाए, यह जरूरी है कि कांग्रेस नेताओं ने जो संपत्ति गलत तरीके से जमा की है, उसे जब्‍त किया जाए। उन्‍होंने आरोप लगाया कि विगत 70 वर्षों में कांग्रेस के कई नेताओं ने केंद्र व विभिन्‍न राज्‍यों की सत्‍ता में रहते हुए गलत तरीके से धन जमा किए। उन्‍होंने कांग्रेस पर ‘विभाजनकारी नीतियों’ को बढ़ावा देने का आरोप भी लगाया।

Prithviraj Chavan

तपस्‍वी छावनी से जुड़े स्‍वामी परमहंस ने कांग्रेस नेता पृथ्‍वीराज चव्‍हाण के सुझाव पर तल्‍ख टिप्‍पणी की है। उन्‍होंने कहा, ‘वो सोना लेने की बात करते हैं, जो भी लेना है, ले लें, लेकिन उससे पहले 70 साल से देश को लूटकर जो कांग्रेस बैठे हैं, उनकी संपत्ति जब्‍त करके इस महामारी में लगा दी जाए। इसके बाद वे मंदिरों की संपत्ति लेने की बात करें तो हम स्‍वागत करेंगे।’ उन्‍होंने यह भी कहा कि सिर्फ मंदिरों ही नहीं, मस्जिदों, गिरजाघरों और सभी तरह के धार्मिक स्‍थलों पर जो भी संपत्ति हो, उसे सरकारी घोषित कर उसे इस महामारी से जंग में लगाया जाए।

GOLD

वहीं, मणिराम दास छावनी के उत्‍तराधिकारी महंत कमल नयन दास को भी कांग्रेस का सुझाव पसंद नहीं आया है। उन्‍होंने कांग्रेस नेताओं को ‘एंटी-नेशनल’ करार दिया है। उन्‍होंने कहा, ‘कांग्रेस के लोग राष्ट्र विरोधी हैं। ऐसा क्यों है कि वे केवल धन पाने के लिए मंदिरों के बारे में सोच रहे हैं? मस्जिद और चर्च क्यों नहीं?’