कृषि कानून वापस लेने पर अड़े किसान, 4 जनवरी को फिर होगी बातचीत, बैठक के बाद जानिए किसने क्या कहा..

Farm Law Issue: माझा किसान संघर्ष कमेटी, पंजाब(Punjab) के अध्यक्ष बलविंदर सिंह ने कहा कि, “सरकार ने 2 मांग मान ली हैं। हमारे 2 विषय रह गए हैं- MSP और 3 कृषि क़ानून। इन दोनों विषय पर 4 तारीख को 2 बजे बात होगी। आज बहुत अच्छे माहौल में बैठक हुई।”

Avatar Written by: December 30, 2020 8:54 pm
Rakesh tikait tomar

नई दिल्ली। बुधवार को कृषि कानूनों को लेकर सरकार और किसानों के बीच सातवें दौर की बैठक लगभग साढ़े 5 घंटे तक चली। इस बैठक को लेकर किसान नेताओं का कहना है कि आज की बैठक अच्छे माहौल में हुई। फिलहाल किसान आज भी बैठक में केंद्र द्वारा पारित तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने पर अड़े रहे तो वहीं सरकार की तरफ से भी अपना पुराना मत साफ किया गया कि, केंद्र इन कानूनों को वापस नहीं लेगी। बता दें कि दिल्ली के विज्ञान भवन में हुई इस बैठक में हिस्सा लेने के लिए 40 किसान संगठन पहुंचे थे। वहीं सरकार की ओर से केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, पीयूष गोयल बैठक में शामिल रहे। आज की बैठक खत्म होने पर ये तय हुआ कि, इसको लेकर 4 जनवरी को फिर से किसानों और सरकार के बीच बातचीत होगी। हालांकि सरकार की तरफ से ये भी स्पष्ट कर दिया गया कि कृषि कानून वापस नहीं लिया जाएगा। जिसके बाद किसानों की भी तरफ से साफ किया गया कि वे अपना प्रदर्शन जारी रखेंगे।

Tomar

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा..

बैठक को लेकर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि, “आज विज्ञान भवन में किसान आंदोलन में शामिल नेताओं के साथ बैठक हुई। बैठक में किसान यूनियन के नेताओं ने जो 4 विषय चर्चा के लिए रखे थे, उनमें से 2 विषयों पर आपसी सहमति सरकार और किसान यूनियनों के बीच हो गई हैं।” उन्होंने कहा कि, “पर्यावरण से संबधित अध्यादेश है उसमें पराली और किसान सम्मिलित हैं। उनकी शंका थी किसान को इसमें नहीं होना चाहिए। इसपर दोनों पक्षों में सहमति हो गई है।”

केंद्रीय कृषि मंत्री तोमर ने कहा कि, “इलेक्ट्रिसिटी एक्ट जो अभी आया नहीं है, उन्हें लगता है यह एक्ट आएगा तो इससे किसानों को नुकसान होगा। सिंचाई के लिए जो बिजली की सब्सिडी दी जाती है वो राज्य जिस प्रकार से देते रहे है, वैसे ही चलनी चाहिए। इसपर भी सरकार और किसान यूनियनों के बीच सहमति हो गई है।” उन्होंने जानकारी दी कि, “कार्यसूची में 4 विषय थे, इनमें से 2 पर रजामंदी हो गई है। इससे दोनों पक्षों में एक अच्छा माहौल बना। किसान यूनियन 3 क़ानूनों को वापिस लेने की बात करती रही हैं। हमने ये बताने की कोशिश की है कि जहां समस्या है, वहां सरकार विचार करने को तैयार है।” तोमर ने कहा कि, “क़ानून के विषय में और MSP के विषय में चर्चा पूरी नहीं हुई है, चर्चा जारी है। हम लोग 4 तारीख (4 जनवरी 2021) को 2 बजे फिर से इकट्ठा होंगे और चर्चा को आगे बढ़ाएंगे।”

Rakesh tikait

राकेश टिकैत ने क्या कहा…

आज बैठक को लेकर भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने आज की बैठक को लेकर कहा कि, “हम कुछ तो संतुष्ट है। दो मांगों को मान लिया गया है। अगली बैठक में हम MSP और 3 क़ानूनों को लेकर सरकार से बात करेंगे। कल की ट्रैक्टर रैली को हमने स्थगित कर दिया है, लेकिन तब तक शांतिपूर्ण ढंग से किसानों का प्रदर्शन जारी रहेगा।”

Kisan Neta Balkaran Singh Balad

ऑल इंडिया किसान सभा पंजाब ने क्या कहा..

पंजाब के ऑल इंडिया किसान सभा के बलकरण सिंह बराड़ ने कहा कि, “सरकार ने बिजली के प्रस्तावित बिल को वापिस ले लिया है। पराली के मामले में सरकार ने अध्यादेश जारी किया था, उसे भी वापिस ले लिया है। MSP और कृषि क़ानूनों पर 4 तारीख को बात होगी।”

Balvindar singh

माझा किसान संघर्ष कमेटी ने क्या कहा…

माझा किसान संघर्ष कमेटी, पंजाब के अध्यक्ष बलविंदर सिंह ने कहा कि, “सरकार ने 2 मांग मान ली हैं। हमारे 2 विषय रह गए हैं- MSP और 3 कृषि क़ानून। इन दोनों विषय पर 4 तारीख को 2 बजे बात होगी। आज बहुत अच्छे माहौल में बैठक हुई।”

Support Newsroompost
Support Newsroompost