Connect with us

देश

Yasin Malik: यासीन मलिक को सजा मिलने से पहले बौखलाया पूरा पाकिस्तान, ट्विटर पर समर्थन में उतरे इमरान, अफरीदी और पाकिस्तानी पीएम

Published

on

yasin malik

नई दिल्ली। यासीन मलिक को आज आतंकी गतिविधियों में शामिल होने के जुर्म में सजा सुनाई जानी है। बीते दिनों हुई पूछताछ में यासीन ने खुद कबूल किया था कि उसने जम्मू-कश्मीर में आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने की दिशा में अपना योगदान दिया था। जिसे लेकर विधिवत जांच के उपरांत अब उसके खिलाफ सजा सुनाए जाने का फैसला किया गया है। बता दें कि दिल्ली स्थित एनआईए की अदालत ने यासीन को टेटर फंडिंग मामले दोषी ठहराया था। जिसे लेकर आज उसे सजा सुनाई जानी है, लेकिन यासीन को सजा सुनाए जाने के बाद पाकिस्तान को मिर्ची लग गई है।  तमाम पाकिस्तानी नेता केंद्र की मोदी सरकार की आलोचना कर रहे हैं। सभी के सभी ट्वीट कर केंद्र मोदी सरकार के खिलाफ अपनी भड़ास निकाल रहे हैं। आइए, हम आपको उन सभी पाकिस्तानी नेताओं के ट्वीट के बारे में बताते हैं।

yasin malik 1

आपको बता दें कि यासीन मलिक को सजा मिलने से पहले पाकिस्तानी प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने केंद्र की मोदी सरकार की आलोचना करने हेतु ट्वीट किया है, जिसमें उन्होंने कहा कि, ‘अफरीदी विश्व को IIOJK में राजनीतिक कैदियों के साथ भारत सरकार के दुर्व्यवहार पर ध्यान देना चाहिए। प्रमुख कश्मीरी नेता यासीन मलिक को फर्जी आतंकवाद के आरोपों में दोषी ठहराना व्यर्थ प्रयास है, भारत के मानवाधिकारों के हनन की आलोचना करने वाली 2 मौन आवाजें’।

इसके साथ ही पाकिस्तान के पूर्व पीएम इमरान खान यासीन मलिक को सजा सुनाने से पहले केंद्र की मोदी सरकार की ओलचना करने हेतु ट्वीट कर कहा कि, ‘कश्मीरी नेता यासीन मलिक के खिलाफ मोदी सरकार की जारी फासीवादी रणनीति की कड़ी निंदा करते हैं, उनके अवैध कारावास से लेकर फर्जी आरोपों में उनकी सजा तक। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को IIOJK में हिंदुत्व फासीवादी मोदी शासन के राजकीय आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए’।

मैं मनगढ़ंत आरोपों में #YasinMalik को भारतीय अदालत द्वारा गलत तरीके से दोषी ठहराए जाने की कड़ी निंदा करता हूं। #YasinMalik IIOJK में हुर्रियत नेताओं के बीच प्रमुख और सम्मानित आवाज है दशकों के भारतीय उत्पीड़न के खिलाफ उनके दृढ़ संकल्प को न्याय के ऐसे उपहास से नहीं हिलाया जा सकता।

अपने ज़बरदस्त मानवाधिकारों के हनन के खिलाफ आलोचनात्मक आवाज़ों को चुप कराने के भारत के निरंतर प्रयास निरर्थक हैं। #YasinMalik के खिलाफ मनगढ़ंत आरोप #कश्मीर की आजादी के संघर्ष को रोक नहीं पाएंगे। कश्मीर के नेताओं के खिलाफ अनुचित और अवैध ट्रेल्स का नोटिस लेने के लिए #UN से आग्रह करना।

Advertisement
Advertisement
Advertisement