राम मंदिर भूमि पूजन करा रहे पुरोहित ने देखिए पीएम नरेंद्र मोदी से दक्षिणा में क्या मांगा…

अयोध्या में बरसों की प्रतीक्षा खत्म हो गई। पीएम मोदी के हाथों आज राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन हुआ। पीएम मोदी के भूमि पूजन करने के साथ ही पूरा देश ‘जय श्रीराम’ के नारों से गूंज उठा।

Avatar Written by: August 5, 2020 5:09 pm

नई दिल्ली। अयोध्या में बरसों की प्रतीक्षा खत्म हो गई। पीएम मोदी के हाथों आज राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन हुआ। पीएम मोदी के भूमि पूजन करने के साथ ही पूरा देश ‘जय श्रीराम’ के नारों से गूंज उठा। पीएम मोदी के साथ इस दौरान यूपी की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत और राम मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास भी बैठे रहे।

bhumi poojan

पुरोहित ने दक्षिणा में ये मांगा

इस दौरान पुरोहित ने कहा, ‘किसी भी यज्ञ में दक्षिणा महत्वपूर्ण होती है। दक्षिणा तो आज इतनी दे दी गई कि आज अरबों आशीर्वाद प्राप्त हो रहे हैं। भारत तो हमारा ही है, उससे उपर और कुछ दें। कुछ समस्याएं हैं, उन समस्याओं को दूर करने का संकल्प तो लिए हुए हैं, 5 अगस्त में कुछ और जुड़ जाए तो भगवान की कृपा होगी।’

Modi Ram

श्रीराम जन्मभूमि पहुंचकर सबसे पहले प्रधानमंत्री ने रामलला का दर्शन किया, मोदी ने भूमि पर लेटकर प्रभु श्रीराम को दण्डवत प्रणाम किया, पीएम ने रामलला के चरणों में लेट कर शीश नवाया। इसके उपरान्त शंखों और घण्टों की परम गुंजायमान देव ध्वनि के बीच उन्होंने परिक्रमा की, परिक्रमा के बाद उन्होंने मर्यादा पुरुषोत्तम श्री रामचंद्र, जगत जननी मां सीता, वीरवर लक्ष्मण एवं रामभक्त हनुमान के विश्व प्रतिष्ठित विग्रहवान स्वरुप की आरती उतारी। पुनः रामलला को प्रणाम कर पीएम वहां से बाहर निकले, इसके बाद उन्होंने परिसर में शास्त्र वर्णित देववृक्ष पारिजात का पौधा रोपित किया।

PM Narendra Modi

भूमि पूजन ठीक उसी स्थान पर प्रारम्भ हुआ जहां परम आराध्य रामलला की पूर्व स्थापना थी। प्रधानमंत्री के पहुंचते ही प्रखर मर्मज्ञ और विद्वान् पंडितों ने उन्हें आसन पर बिठाया, पीएम के साथ राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और संघ प्रमुख मोहन भागवत ने भी आसन ग्रहण किया। इसी के साथ उच्च पांडित्य स्वरों में मंत्रोच्चार प्रारम्भ हुआ। विद्वान् पंडितगण बीच-बीच में मन्त्रों का भावार्थ भी वर्णित कर रहे थे।