Connect with us

देश

Rajasthan: राहुल के इस बयान ने किया गहलोत पर जादू, पुराने शिकवे भुलाकर पायलट के साथ साझा किया मंच, दिया ये बयान

Rajasthan: वहीं, मंच पर गहलोत और पायलट के बीच आत्मीयता ने राजस्थान की राजनीति में उठ रहे तमाम सवालों को स्थगित कर दिया है। बताया जा रहा है कि गहलोत, पायलट और केसी वेणुगोपाल के बीच बंद कमरे में पहले बैठक हुई थी। हालांकि, यह बैठक किन मुद्दों पर हुई।

Published

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश में भारत जोड़ो यात्रा के दौरान प्रेसवार्ता में राहुल गांधी से राजस्थान की राजनीति में जारी सियासी खींचतान के बीच गहलोत और पायलट के बीच मुनमुटाव को लेकर सवाल किया गया था। जिस पर उन्होंने कहा था कि, ‘दोनों ही नेता कांग्रेस के लिए संपत्ति हैं। दोनों ही हमारे लिए सम्मानित हैं। ध्यान रहे कि आगामी राजस्थान विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए राहल गांधी के उपरोक्त बयान बड़े दूरगामी परिणाम निकाले जा रहे हैं। वहीं, अब राहुल गांधी के उक्त बयान के बाद सीएम गहलोत और पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट एक साथ मंच साझा करते हुए दिखें हैं। गहलोत के मंच पर आते ही सचिन पायलट ने हाथ जोड़कर उनका अभिवान किया। गहलोत ने भी उनके अभिवादन को सहर्ष स्वीकार किया। ध्यान रहे कि गहलोत द्वारा पायलट को गद्दार बताए जाने के बाद पहली बार दोनों इस आत्मीयता से मिले हैं।

बीते दिनों मध्य प्रदेश में भारत जोड़ो यात्रा के दौरान सचिन पायलट राहुल गांधी के साथ नजर आए थे। जिसके बाद गहलोत ने पायलट को गद्दार बता दिया था। जिसके बाद दोनों ही नेताओं के बीच शीतयुद्ध शुरू हो गया था। वहीं, सियासी पंडितों की मानें तो पायलट गांधी परिवार के पसंदीदा है। कई मौकों पर गांधी पर पायलट का समर्थन जाहिर कर चुके हैं। जिससे गहलोत का चिंतित होना लाजिमी है, लेकिन गहलोत खेमे का कहना है कि उनकी कुर्सी पर कोई खतरा नहीं है। वहीं, मंच पर गहलोत और पायलट के बीच आत्मीयता ने राजस्थान की राजनीति में उठ रहे तमाम सवालों को स्थगित कर दिया है। बताया जा रहा है कि गहलोत, पायलट और केसी वेणुगोपाल के बीच बंद कमरे में पहले बैठक हुई थी। हालांकि, यह बैठक किन मुद्दों पर हुई। यह सार्वजनिक नहीं हो पाई है। लेकिन, बैठक संपन्न होने के बाद गहलोत और पायलट के बीच जो आत्मीयता देखने को मिली है, उसे लेकर राजस्थान की राजनीति में चर्चाओं का बाजार गुलजार हो चुका है।

राहुल गांधी द्वारा सचिन पायलट और गहलोत को लेकर दिए गए बयानों के कई मायने निकाले जा रहे हैं। ध्यान रहे कि वर्तमान में राहुल भारत जोड़ो यात्रा को लेकर मध्य प्रदेश में हैं। उनका अगला पड़ाव राजस्थान है। ऐसे में राजनीति सियासी हलचल यात्रा को लेकर अभी से ही तेज हो चुकी है। राजस्थान में यात्रा को सफल बनाने की दिशा में अभी से ही सभी सक्रिय हो चुके हैं। अगले वर्ष राजस्थान में विधानसभा के चुनाव भी होने हैं। राहुल की भारत जोड़ो यात्रा का राजस्थान के बाद हरियाणा अगला पड़ाव है।

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement