Connect with us

देश

UP: हिंदुत्व पर राकेश टिकैत का बदला रुख, ज्ञानवापी मस्जिद मसले पर मुसलमानों को दी नसीहत- जिसका माल उसे हो वापस

उन्होंने ये भी कहा कि हिंदुओं की आस्था है कि पहाड़ से भी पत्थर उठा लो, तो वो शिवलिंग बन जाता है। बता दें कि राकेश टिकैत ने मुजफ्फरनगर में साल 2017 में यूपी चुनाव से पहले हुए दंगों के मामलों में भी दंगाइयों के प्रति सख्त बयान दिए थे।

Published

on

rakesh tikait

बुलंदशहर। किसान आंदोलन के दौरान मुस्लिम समुदाय का समर्थन मिलने पर गदगद दिखने वाले भारतीय किसान यूनियन BKU के नेता राकेश टिकैत ने अब इस समुदाय को नाराज करने वाली बात कर दी है। टिकैत ने हिंदुत्व के प्रति नरम रुख अपनाने का संकेत इस बयान से दिया है। टिकैत ने बुलंदशहर में मीडिया के सवाल पर ज्ञानवापी मस्जिद के मसले पर अपनी राय रखी। टिकैत ने मुस्लिम समुदाय को नसीहत दी है कि उसे ज्ञानवापी मस्जिद हिंदुओं को सौंप देनी चाहिए। इससे पहले टिकैत ने कभी भी ऐसे मुद्दों पर इस तरह अपनी राय जाहिर नहीं की थी। ऐसे में उनका बयान हैरत में डालने वाला है और चर्चा का विषय बन गया है।

gyanvapi 2

टिकैत से पत्रकारों ने ज्ञानवापी मस्जिद के विवाद के बारे में सवाल पूछा था। इस पर राकेश टिकैत ने सीधा जवाब तो नहीं दिया, लेकिन कहा कि जिसका जो भी माल है, उसे वो वापस कर देना चाहिए। उन्होंने ये भी कहा कि हिंदुओं की आस्था है कि पहाड़ से भी पत्थर उठा लो, तो वो शिवलिंग बन जाता है। बता दें कि राकेश टिकैत ने मुजफ्फरनगर में साल 2017 में यूपी चुनाव से पहले हुए दंगों के मामलों में भी दंगाइयों के प्रति सख्त बयान दिए थे। पहले वो कृषि कानूनों के पक्ष में भी थे, लेकिन बाद में विरोध पर उतर आए।

rakesh tikait

टिकैत पर बीते दिनों कर्नाटक के बेंगलुरु में किसान संगठनों की बैठक के दौरान स्याही फेंकी गई थी। साथ ही एक व्यक्ति ने विरोध जताते हुए मेज पर रखे एक टीवी चैनल की माइक से उन्हें मारा भी था। टिकैत ने इस पर राज्य की बीजेपी सरकार और वहां की पुलिस पर आरोप लगाया था। इससे पहले टिकैत की भारतीय किसान यूनियन दो फाड़ भी हुई थी।

Advertisement
Advertisement
Advertisement