Uma Bharti: उमा भारती ने पत्र में लिखा- अदालत का हर फैसला मेरे लिए भगवान का आशीर्वाद होगा,  फैसले के बाद नहीं लूंगी…

Uma Bharti: उमा भारती (Uma Bharti) अभी कोरोनावायरस (Coronavirus) से संक्रमित होने के बाद ऋषिकेश स्थित AIIMS में अपना इलाज करा रही हैं। उमा भारती ने सोमवार (28 सितंबर) को अपने ट्वीट में लिखा, ‘मैं अभी-अभी एम्स ऋषिकेश में भर्ती हो गई हूं।

Avatar Written by: September 28, 2020 7:44 pm
Uma Bharati BJP

नई दिल्ली। 6 दिसम्बर 1992 को विवादित ढांचा विध्वंस मामले में पूर्व उपप्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह, पूर्व केन्द्रीय मंत्री मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, बीजेपी नेता विनय कटियार, महंत नृत्य गोपाल दास और साध्वी ऋतम्बरा समेत कुल 32 अभियुक्त हैं। इस मामले में अदालत 30 सितंबर को अपना फैसला सुनाने वाली है। ऐसे में इस फैसले से पहले भाजपा की फायर ब्रांड नेता और मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखा है। आपको बता दें कि उमा भारती अभी कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद ऋषिकेश स्थित AIIMS में अपना इलाज करा रही हैं। उमा भारती ने सोमवार (28 सितंबर) को अपने ट्वीट में लिखा, ‘मैं अभी-अभी एम्स ऋषिकेश में भर्ती हो गई हूं, इसके तीन कारण है- पहला केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन जी बहुत चिंता कर रहे हैं, दूसरा- मेरे को रात में बुखार बढ़ गया और तीसरा- मेरी एम्स में जांच-पड़ताल होने के बाद यदि मुझे सकारात्मक रिपोर्ट मिली तो मैं परसों लखनऊ की सीबीआई कोर्ट में पेश होना चाहती हूं।’

babari masjid

उमा भारती ने भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखा जिसमें अयोध्या बाबरी मस्जिद मामले का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा है कि 30 सितंबर को लखनऊ की विशेष अदालत में फैसला सुनने के लिए मुझे पेश होना है। मैं कानून को वेद, अदालत को मंदिर एवं जज को भगवान का रूप मानती हूं। इसलिए अदालत का हर फैसला मेरे लिए भगवान का आशीर्वाद होगा। मुझे अयोध्या आंदोलन में भागीदारी पर गर्व है मैंने तो हमेशा कहा है कि अयोध्या के लिए तो फांसी भी मंजूर है। मैं नहीं जानती फैसला क्या होगा किंतु मैं अयोध्या पर जमानत नहीं लूंगी। जमानत लेने से आंदोलन में भागीदारी की गरिमा कलंकित होगी। ऐसे हालातों में आप मुझे नई टीम में रख पाते हैं कि नहीं इस पर विचार कर लीजिए।

28 साल पुराने बाबरी विध्वंस मामले में लखनऊ में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट 30 सितंबर को फैसला सुनाने वाली है। इस मामले में उमा भारती के अलावा बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी समेत अन्य आरोपी हैं। वहीं इस पूरे मामले पर फैसले के वक्त सीबीआई के विशेष जज एस के यादव ने लालकृष्ण आडवाणी, एमएम जोशी, कल्याण सिंह और उमा भारती समेत सभी आरोपियों को फैसले के दिन (30 सितंबर) अदालत में उपस्थित रहने के निर्देश दिए हैं।

इससे पहले रामविलास दास वेदांती बोले- उम्रकैद या फांसी की सजा भी मंजूर

इससे पहले पूर्व सांसद और राम मंदिर आंदोलन के अगुआ रामविलास दास वेदांती ने भी बड़ा बयान दिया है। वेदांती ने कहा कि यदि कोर्ट इस मामले में उन्हें उम्रकैद या फांसी की सजा भी देती है तो उन्हें मंजूर होगा। उन्होंने कहा कि 30 सितंबर को लखनऊ के सीबीआई कोर्ट में हाजिर होने के लिए कहा गया है। कोर्ट पहुंचकर वह आत्मसमर्पण के लिए तैयार हैं। कोर्ट का जो भी फैसला होगा वह हमें मंजूर होगा।

Ram Vilas Vedanti

वेदांती ने कहा कि हमें इसका गर्व है कि उस मंदिर के खंडहर को हमने तुड़वाया है, जिसकी जिम्मेदारी भी मैंने ली है और 30 सितंबर को आने वाले फैसले का स्वागत करेंगे। इस फैसले में यदि हमें उम्रकैद या फांसी की सजा भी होती है तो इससे बड़ा सौभाग्य नहीं होगा।