Connect with us

देश

Akhilesh vs Shivpal: अखिलेश यादव को सबक सिखाएंगे चाचा शिवपाल?, CM योगी से मुलाकात के बाद ये है बड़ा प्लान

Akhilesh vs Shivpal: वहीं सीएम योगी से मुलाकात के बाद शिवपाल यादव का पहला बयान सामने आया है। दरअसल प्रसपा पदाधिकारियों के साथ बैठक के बाद बोले शिवपाल सिंह यादव से मीडिया ने सीएम योगी से मुलाकात को लेकर सवाल पूछा तो, उन्होंने कहा कि सीएम के साथ शिष्टाचार मुलाकात हुई। आगे की रणनीति पर कहा कि वक्त आने पर बता दूंगा।

Published

on

नई दिल्ली। बीते दिन शिवपाल यादव ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की थी। जिसके कयास लगाए जाने लगे की शिवपाल यादव भतीजे अखिलेश यादव को गच्चा दे सकते है और भाजपा में शामिल हो सकते है। बता दें कि अखिलेश ने नाराज प्रगतिशील समाजवादी पार्टी प्रमुख शिवपाल के भाजपा के साथ नजदीकियां लगातार बढ़ती है। इसी बीच शिवपाल यादव को लेकर एक बड़ी खबर सामने आ रही है। खबरों के अनुसार, भाजपा शिवपाल यादव को राज्यसभा भेज सकती है और इतना ही नहीं माना जा रहा है कि शिवपाल यादव के बेटे आदित्य को भी मंत्रिमंडल में जगह मिल सकती है। जानकारी के मुताबिक, बीजेपी शिवपाल के बेटे को आजमगढ़ से लोकसभा का चुनाव लड़ा सकती है। ऐसे में देखा जाए तो शिवपाल यादव और उनके बेटे भाजपा के साथ कदम से कदम मिला सकते है यानी की भाजपा से गठबंधन कर सकते है। अगर ऐसा होता है तो अखिलेश यादव को तगड़ा झटका लग सकता है। बता दें कि बीते दिनों सपा प्रमुख ने आजमगढ़ के सांसद पद से इस्तीफा दे दिया था। जिसके बाद अब यह सीट खाली है, जिसपर लोकसभा चुनाव होंगे। ऐसी भी खबर है कि इस सीट पर अखिलेश की पत्नी डिंपल यादव को चुनावी मैदान में उतर सकती है।

CM योगी से मुलाकात पर शिवपाल यादव का बयान

वहीं सीएम योगी से मुलाकात के बाद शिवपाल यादव का पहला बयान सामने आया है। दरअसल प्रसपा पदाधिकारियों के साथ बैठक के बाद बोले शिवपाल सिंह यादव से मीडिया ने सीएम योगी से मुलाकात को लेकर सवाल पूछा तो, उन्होंने कहा कि सीएम के साथ शिष्टाचार मुलाकात हुई। आगे की रणनीति पर कहा कि वक्त आने पर बता दूंगा।

बता दें कि कई मौकों पर शिवपाल भतीजे अखिलेश के प्रति अपनी नाराजगी जाहिर कर चुके हैं।  इससे पहले शिवपाल और अखिलेश के बीच विधानसभा चुनाव से पूर्व सीटों के बंटवारे को लेकर भी मतभेद देखने को मिले थे। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, शिवपाल चुनाव में अखिलेश से 100 से अधिक सीटों की मांग कर रहे थे, लेकिन अखिलेश ने महज 1 सीटों दी थी जिसे लेकर भी चाचा की नाराजगी सार्वजनिक हुई थी।

Advertisement
Advertisement
Advertisement