आरोग्य सेतु में ग्रीन स्टेटस तो ही कर सकेंगे हवाई यात्रा, जानिए और भी हैं कई शर्तें

कोरोना के खिलाफ देश में जारी जंग को देखते हुए मंत्रालय ने एयरपोर्ट ऑपरेटर एवं एयरलाइंस की सहमति के बाद एक स्‍टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर तैयार किया है। जिसमें, एयरपोर्ट ऑपरेटर, एयरलाइंस के साथ-साथ यात्रियों के दायित्‍वों का भी जिक्र किया गया है। इस एसओपी में बताया गया है कि कोविड-19 से बचाव के लिए एयरपोर्ट ऑपरेटर और एयरलाइंस को किन बातों का ध्‍यान रखना है।

Written by: May 21, 2020 4:42 pm

नई दिल्‍ली। कोरोना के खिलाफ देश में जारी जंग को देखते हुए मंत्रालय ने एयरपोर्ट ऑपरेटर एवं एयरलाइंस की सहमति के बाद एक स्‍टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर तैयार किया है। जिसमें, एयरपोर्ट ऑपरेटर, एयरलाइंस के साथ-साथ यात्रियों के दायित्‍वों का भी जिक्र किया गया है। इस एसओपी में बताया गया है कि कोविड-19 से बचाव के लिए एयरपोर्ट ऑपरेटर और एयरलाइंस को किन बातों का ध्‍यान रखना है।

arogya setu app

साथ ही, इस एसओपी में यात्रियों के लिए भी ‘क्‍या करें और क्‍या न करें’ की जानकारी दी गई है। उन्‍होंने बताया कि सभी एजेंसीज की कोशिश है कि कोराना वायरस के संक्रमण से बचाव करते हुए सभी यात्रियों को सुरक्षित उनके गंतव्‍य तक पहुंचाया जा सके।

airplanes

विमानन क्षेत्र से जुड़े वरिष्‍ठ अधिकारी के अनुसार, नई एसओपी लागू होने के बाद एयरपोर्ट पर होने वाली सभी प्रक्रियाओं में लगने वाला समय बढ़ जाएगा। इसी बात को ध्‍यान में रखते हुए, नई एसओपी में मुसाफिरों को अपनी फ्लाइट के निर्धारित समय से 2 घंटे पहले एयरपोर्ट पहुंचने की सलाह दी गई है।

Indian Flight DGCA

उन्‍होंने बताया कि यात्रियों के मोबाइल फोन में आरोग्‍य सेतु एप्‍लीकेशन का इंस्‍टाल होना अनिवार्य किया गया है। आयोग्‍य सेतु में ग्रीन स्‍टेटस वाले मुसाफिरों को ही एयरपोर्ट टर्मिनल बिल्डिंग में प्रवेश की इजाजत दी जाएगी. इसके अलावा, यात्रियों के लिए ग्‍लब्‍स, मास्‍क और शू-कवर पहनना अनिवार्य किया गया है। कुछ एयरपोर्ट पर आवश्‍यकता अनुसार, फेस शील्‍ड और पीईपी किट पहनने की भी सलाह दी गई है।