दावा- जहां-जहां BCG का टीका हुआ इस्तेमाल, वहां कोरोना से मृत्युदर कम

बेसिलस कैलमेट-ग्यूरिन (BCG) वैक्सीन लगभग 100 साल पहले तैयार की गई थी। इससे ट्यूबरकुलोसिस या टीबी (तपेदिक) के बैक्टीरिया के खिलाफ इम्यूनिटी पैदा होती है।

Avatar Written by: July 10, 2020 3:33 pm

नई दिल्ली। कोरोनावायरस का प्रकोप तेजी के साथ देशभर में बढ़ता चला जा रहा है। इस स्थिति में इसकी वैक्सीन को लेकर खोज जारी है। इसी बीच ट्यूबरकुलोसिस (टीबी) के लिए इस्तेमाल की जाने वाली सदियों पुरानी दवा BCG से कोरोना के कारण मृत्युदर को कम करने की उम्मीद जगी है। एक रिसर्च में पाया गया है कि विकासशील देशों में मृत्युदर कम होने के पीछे एक कारण टीबी की वैक्सीन हो सकती है।

bcg vaccine

वर्जिनिया टेक के कॉलेज ऑफ नैचरल रिसोर्सेज ऐंड एन्वायरन्मेंट में असिस्टेंट प्रफेसर लुइस एस्कोबार ने इस बात पर रिसर्च की कि कुछ विकासशील देशों में अमेरिका के स्टेट्स के कम मृत्युदर कैसे हैं, जबकि वहां आबादी ज्यादा भी है और घनी भी। स्टडी में पाया गया कि जिन देशों में कोविड-19 की वजह से मृत्युदर कम है, वहां लोगों की उम्र, आय और हेल्थ केयर सुविधाओं को लेकर भारी विविधता थी। हालांकि, इन सब में एक चीज समान थी- टीबी का वैक्सिनेशन प्रोग्राम।

BCG india

बता दें कि अमेरिका में टीबी की दवा बेसिलस कैलमेट-ग्यूरिन (BCG) को आमतौर पर इस्तेमाल नहीं किया जाता है। इसको लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि यह बीमारी विकासशील देशों में ही ज्यादा होती है। स्टडी में पाया गया कि BCG वैक्सीन प्रोग्राम और कोविड-19 के कारण मृत्युदर में आपस में गहरा संबंध है। रिसर्चर्स का कहना है कि BCG इंडेक्स में 10% बढ़ोतरी के साथ कोविड-19 की मृत्युदर 10.4% कम हो जाती है।

BCG वैक्सीन के कोविड-19 से लोगों को बचाने को लेकर अप्रैल में WHO ने साफ कहा था कि, इस दवा से कोरोना से बचने के कोई सबूत नहीं मिले हैं। क्योंकि इस पर ज्यादातर रिसर्च में लोग समाज में अंतर, टेस्टिंग, महामारी के स्तर जैसे कई मानकों का ध्यान नहीं रखते हैं। हालांकि, एस्कोबार का कहना है कि उनकी टीम ने सभी सामाजिक अंतरों को ध्यान में रखते हुए अनैलेसिस किया है।

BCG

बेसिलस कैलमेट-ग्यूरिन (BCG) वैक्सीन लगभग 100 साल पहले तैयार की गई थी। इससे ट्यूबरकुलोसिस या टीबी (तपेदिक) के बैक्टीरिया के खिलाफ इम्यूनिटी पैदा होती है। इसके टीके से लोगों इम्यून सिस्टम बेहतर होता है और खुद को कई संक्रमणों से बचाया जा सकता है।