महाराष्ट्र में CAA-NPR को लेकर NCP का यह रूख जानकर बेचैन हो उठेगी कांग्रेस

राजनीतिक रूप से शरद पवार और अजीत पवार के बीच मतभेद कई बार उजागर हो चुके हैं। वहीं अब सीएए और एनपीआर की आग महाराष्ट्र में अजित पवार और शरद पवार के बीच दिखने लगी है। जहां एक तरफ तो अजित पवार नागरिकता कानून का खुलकर समर्थन कर रहे हैं।

Written by: March 2, 2020 5:44 pm

नई दिल्ली। राजनीतिक रूप से शरद पवार और अजीत पवार के बीच मतभेद कई बार उजागर हो चुके हैं। वहीं अब सीएए और एनपीआर की आग महाराष्ट्र में अजित पवार और शरद पवार के बीच दिखने लगी है। जहां एक तरफ तो अजित पवार नागरिकता कानून का खुलकर समर्थन कर रहे हैं। वहीं दूसरी ओर अजित पवार ने इस कानून का विरोध कर रहे हैं। दरअसल अजित का कहना है कि इस कानून से किसी की  नागरिकता नहीं जाएगी।

sharad pawar

गौर हो कि नागरिकता संशोधन कानून पर शरद पवार और कांग्रेस की विचारधारा से उलट उद्धव ठाकरे अपनी राय प्रकट कर चुके हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सीएए का समर्थन करते हुए कहा था कि इससे किसी को घबराने की जरूरत नहीं है। इसे शरद पवार ने उनका निजी नजरिया बताकर खारिज कर दिया था। वहीं अब शरद पवार के भतीजे और महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजीत पवार  ने खुलकर सीएए का समर्थन किया है।

ajit pawar

दरअसल उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने ने CAA और एनपीआर के खिलाफ विधानसभा में प्रस्ताव पास करने की मांग को दरकिनार कर दिया है। मुंबई में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते उन्होंने कहा कि इस कानून से किसी को घबराने की कतई जरूरत नहीं है और जो लोग इसे लेकर भ्रम की स्थिति पैदा करने में लगे हैं, उनकी बातों में आने की जरूरत नहीं है।

NCP

NCP की पार्टी बैठक ‘मिशन मुंबई के मंच से पवार ने कहा, “सीएए और एनपीआर से किसी भी नागरिक की नागरिकता नहीं छीनी जाएगी। शरद पवार जी ने भी कहा है कि महाराष्ट्र में हम इससे किसी को परेशानी नहीं होने देंगे। इस सबके बावजूद कुछ लोग कहते हैं कि बिहार की विधानसभा में जो प्रस्ताव पास हुआ है, वो यहां हो। इस सबकी जरूरत नहीं है। कुछ लोग इसे लेकर भ्रम फैला रहे हैं। हमें सजग होकर समाज में जागरूकता फैलानी चाहिए।”