डीयू के छात्रों ने दिल्ली पुलिस के शहीद हेड कांस्टेबल रतनलाल को दी श्रद्धांजलि

आज अभाविप विधि संकाय इकाई के द्वारा आयोजित श्रद्धांजलि सभा में छात्रों ने शहीद हेड कांस्टेबल रतन लाल, जो की सीएए विरोधी हिंसक दंगों में कानून व्यवस्था को बनाये रखने के अपने कर्तव्य का पालन करते हुए शहीद हो गए को श्रद्धांजलि अर्पित की।

Avatar Written by: February 25, 2020 6:22 pm

नई दिल्ली। आज अभाविप विधि संकाय इकाई के द्वारा आयोजित श्रद्धांजलि सभा में छात्रों ने शहीद हेड कांस्टेबल रतन लाल, जो की सीएए विरोधी हिंसक दंगों में कानून व्यवस्था को बनाये रखने के अपने कर्तव्य का पालन करते हुए शहीद हो गए को  श्रद्धांजलि अर्पित की। विधि संकाय के छात्रों ने बड़ी संख्या में मौजूद रहकर शहीद रतन लाल को नम आंखों से श्रद्धांजलि अर्पित की साथ ही एक स्वर में ऐसे हिंसक आंदोलन की कड़ी निंदा की।

इसी दौरान ABVP कैंपस लॉ सेंटर के इकाई अध्यक्ष आशीष भट्ट ने कहा, ” सीएए पर बहस तथा शांतिपूर्ण प्रदर्शन या समर्थन का लोकतांत्रिक अधिकार हर नागरिक को  है। लेकिन हिंसा, आगजनी तथा गोलीबारी की हमारे देश में कोई जगह नहीं हो सकती। किसी भी प्रश्न का उत्तर विमर्श से निकल सकता है, आंदोलन  से निकल सकता है  पर हिंसा से नहीं।

हम छात्र , हिंसक प्रदर्शनकारियों से शांति स्थापित करने की अपील करते हैं। जिस प्रकार से कल वामपंथियों तथा कांग्रेसियों ने कल की हिंसा के दौरान सोशल मीडिया के माध्यम से झूठ फैलाया वह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है। फेक न्यूज़ पर रोक लगाना अति आवश्यक है जिसस  अफवाहों की वजह से हिंसा न फैल पाए। ”

ABVP लॉ सेंटर-1 इकाई के मंत्री चन्दन गुप्ता ने कहा कि ” हमारा समाज, शहीद रतन लाल के शहादत को कभी नहीं भूलेगा। कुछ लोग सीएए विरोध की आड़ में देश को तोड़ने के लिए प्रयासरत हैं  और इसके लिये हिंसा लेकर देश‌ का माहौल‌ खराब कर रहे हैं। इस प्रकार की हिंसा के पीछे विभाजनकारी कुविचार है। पूरे देश को एकजुट होकर इस विभाजनकारी विचार से लड़ना होगा तथा हमें प्रयास करना होगा कि हमारे देश में शांति व्यवस्था कायम हो सके तथा लोग एक साथ मिलजुल कर रह सकें। कट्टरपंथी ताकतें तथा शहरी माओवादी मिलकर जिस प्रकार का देशविरोधी षड्यंत्र रच रहे हैं , उसको देश के आम नागरिक कभी सफल नहीं होने देंगे।”

 

Support Newsroompost
Support Newsroompost