Congress: चुनाव आयोग ने चलाया ‘चाबुक’, कमलनाथ का कांग्रेस के स्टार प्रचारकों की लिस्ट से नाम हटाया

Congress: चुनाव आयोग (Election Commission) ने अपने आदेश में कहा कि कमलनाथ (Kamal Nath) के खिलाफ आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायतें लगातार आ रही थीं। भाजपा नेता इमरती देवी को आइटम बोलने के बाद कमलनाथ ने एक अन्य सभा में शिवराज सिंह को नौटंकी कलाकार भी कहा था।

Avatar Written by: October 30, 2020 6:34 pm
Kamalnath Rahul

नई दिल्ली। मध्य प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव में पार्टियों का चुनाव प्रचार अपने चरम पर है। वहीं एक खबर आ रही है कि मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ पर चुनाव आयोग ने कार्रवाई की है। आयोग ने कमलनाथ का नाम कांग्रेस पार्टी के स्टार प्रचारकों की लिस्ट से हटा दिया है। आदर्श आचार संहिता के बार-बार उल्लंघन पर चुनाव आयोग ने उनके खिलाफ ये कार्रवाई की है। हालांकि, यह जरूर है कि कमलनाथ मध्य प्रदेश उपचुनाव में प्रचार कर सकेंगे, लेकिन खर्चा पार्टी नहीं प्रत्याशी देगा।

rahul sonia kamalnath

चुनाव आयोग ने अपने आदेश में कहा कि कमलनाथ के खिलाफ आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायतें लगातार आ रही थीं। भाजपा नेता इमरती देवी को आइटम बोलने के बाद कमलनाथ ने एक अन्य सभा में शिवराज सिंह को नौटंकी कलाकार भी कहा था। इमरती देवी पर किए गए कमेंट की वजह से कमलनाथ की जमकर किरकिरी हुई थी। उनकी पार्टी की तरफ से राहुल गांधी ने भी उनके इस बयान की निंदा की थी लेकिन फिर भी वह इस बयान पर माफी मांगने से इनकार कर रहे थे।

इस सब के बीच चुनाव आयोग ने अब मध्य प्रदेश के सीईओ की रिपोर्ट के आधार पर कमलनाथ को आचार संहिता के उल्लंघन का दोषी माना है। चुनाव आयोग की तरफ से बार-बार दी गई चेतावनी के बावजूद अपना रूख ना बदलने की वजह से कमलनाथ के खिलाफ सख्त एक्शन लेते हुए आदर्श आचार संहिता के अनुच्छेद एक और दो के तहत यह कार्रवाई की गई है।

Kamalnath Government

बता दें कि चुनाव आयोग ने इससे पहले कमलनाथ को इमरती देवी के लिए दिए गए आइटम वाले बयान पर उनसे जवाब मांगा था। कमलनाथ ने कहा था कि उनके बयान का गलत मतलब निकाला गया। वहीं, इमरती देवी के खिलाफ ‘आइटम’ शब्द का इस्तेमाल करने पर चुनाव आयोग ने कमलनाथ को नसीहत भी दी थी। इस बयान पर चुनाव आयोग ने कमलनाथ को नसीहत देते हुए कहा था कि चुनाव के लिए आचार संहिता लागू होने पर सार्वजनिक रूप से ऐसे शब्दों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

kamalnath

चुनाव आयोग को दिए जवाब में कमलनाथ ने कहा कि अगर चुनाव आयोग मेरे पूरे भाषण को फिर से देखता है तो उसे समझ आ जाएगा कि कोई दुर्भावना नहीं थी। पूर्व सीएम ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने अपने ऐतिहासिक निर्णयों में कई बार कहा है कि चुनावी सरगर्मी में कई बयान सामने आ चुके हैं। कमलनाथ ने कहा कि मेरा मकसद किसी को ठेस पहुंचाना नहीं था। कमलनाथ के जबाव के बाद चुनाव आयोग ने उन्हें नसीहत दी कि सार्वजनिक तौर पर ऐसे शब्दों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।